उत्तराखंड प्रदेश

उत्तराखंड चुनाव: भाजपा-आप ने दागी नेताओं को टिकट बांटने पर दी ये सफाई

विधानसभा चुनाव-2022 में आपराधिक पृष्ठभूमि वाले प्रत्याशियों को टिकट देने की वजह पार्टियों ने उनकी कार्यकर्ताओं के बीच सर्वसम्मति और लोकप्रियता बताई है। भाजपा का कहना है कि इन प्रत्याशियों के चयन में पन्ना प्रमुख से लेकर प्रदेश स्तर तक सहमति रही है, वहीं आप ने बताया है कि इन प्रत्याशियों का प्रदर्शन अन्य सभी से बेहतर था।

निर्वाचन आयोग ने इस बार आपराधिक पृष्ठभूमि वाले प्रत्याशियों के चयन पर सख्ती दिखाते हुए दलों को ऐसे प्रत्याशियों को चुनने की वजह साफ करने को कहा है। साथ ही यह भी बताने को कहा है कि उसने दूसरे दावेदारों के मुकाबले इन्हें टिकट क्यूं दिया। इसी क्रम में भाजपा ने सार्वजनिक सूचना जारी करते हुए अब तक घोषित टिकटों में नौ प्रत्याशियों पर मुकदमें दर्ज होने की जानकारी दी है। वहीं आप ने ऐसे छह प्रत्याशियों का विवरण अपनी वेबसाइट पर जारी किया है।

दुर्गेश्वर पर किया व्यापक विमर्श 
भाजपा ने बताया है कि उसके यहां पन्ना प्रमुख से प्रत्याशी का नाम प्रस्तावित किया जाता है, जो वार्ड, मंडल, महानगर से होते हुए प्रदेश स्तर तक आता है। इस तरह एक पूरी लोकतांत्रिक प्रक्रिया से प्रत्याशियों का चयन किया गया है। पार्टी ने पुरोला से दुर्गेश्वर लाल को टिकट देने के लिए भी कार्यकर्ताओं के फैसले पर विश्वास को आधार बताया है। जबकि दुर्गेश्वर लाल को टिकट देने से दो घंटे पहले ही पार्टी में शामिल किया गया था। पार्टी ने शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय को टिकट देने के पीछे बतौर शिक्षा मंत्री उनके उल्लेखनीय प्रदर्शन को आधार बताया है।

भाजपा के इन प्रत्याशियों पर दर्ज हैं मुकदमे
आदेश चौहान,प्रदीप बत्रा,धन सिंह धामी, महेश जीना,राजेश कुमार,अरविंद पांडेय,दिलीप सिंह रावत, बिशन सिंह चुफाल,दुर्गेश्वर लाल

आप की सफाई:घाट आंदोलन के नेता हैं गुड्डू राम 
आप ने थराली प्रत्याशी गुड्डू राम पर दर्ज मुकदमों के बार में बताया है कि उन पर घाट में सड़क के लिए चले आंदोलन के दौरान मुकदमें दर्ज हुए हैं। पार्टी ने कैंट प्रत्याशी रविंद्र सिंह आनंद पर दर्ज मुकदमों को जलन और बदले की भावना के चलते बताया है। साथ ही बताया है कि वो गरीब लड़कियों की शादी में मदद करते हैं। पार्टी ने शिशुपाल रावत पर धोखाधड़ी के मुकदमे दर्ज होने के बावजूद उन्हें रामनगर में टिकट देने की वजह स्पष्ट करते हुए बताया है वो स्कूल संचालित करते हैं, जहां वंचित वर्ग के बच्चों को निशुल्क शिक्षा दी जाती है।

आप के इन पर मुकदमे: गुड्डू राम,रविंद्र सिंह आनंद,मनोहर लाल पहाड़ी,अरविंद कुमार,शिशुपाल सिंह रावत,दीपक बाली