उत्तराखंड प्रदेश

रूस-यूक्रेन युद्ध: सीएम पुष्कर सिंह धामी का वादा, उत्तराखंड के लोगों को लाएंगे वापस, जानिए प्लान

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा है कि यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के लोगों की वतन वापसी को लेकर वह लगातार विदेश मंत्रालय से संपर्क बनाए हुए हैं। धामी ने कहा कि यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के लोगों को जल्द ही सुरक्षित घर तक पहुंचा दिया जाएगा। मुख्यमंत्री धामी ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में विदेश मंत्रालय की तरफ से निकासी अभियान चलाया गया है।
इसके तहत यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के पन्द्रह छात्र-छात्राएं सकुशल वापस आ गए हैं। शेष बच्चों को भी लाने के प्रयास जारी हैं। रविवार को भी उत्तराखंड के कुछ छात्र रोमानिया से लौटे हैं जबकि, सैकड़ों अब भी फंसे हुए हैं। रोमानिया की ओर जाने में छात्र-छात्राओं को ठंड व जाम जैसी दिक्कतों से जूझना पड़ रहा है।
उत्तराखंड प्रदेश

उत्‍तराखंड में कल से फिर बदल सकता है मौसम का मिजाज

देहरादून:  उत्‍तराखंड में कल से मौसम बदल सकता है। आज रात तक ताजा पश्चिमी विक्षोभ उत्तराखंड में दस्तक दे सकता है। जिससे पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश के साथ बर्फबारी के आसार बन रहे हैं। मौसम विभाग के अनुसार एक मार्च से प्रदेश में मौसम फिर करवट बदल सकता है। वहीं, सोमवार को भी मौसम के शुष्क रहने का अनुमान है।
रात तक ताजा पश्चिमी विक्षोभ हिमालयी क्षेत्रों में दे सकता है दस्तक मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार आज प्रदेश में मौसम शुष्क रहने के आसार हैं। वहीं, देर रात तक ताजा पश्चिमी विक्षोभ हिमालयी क्षेत्रों में दस्तक दे सकता है। इस कारण उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ़ जनपद में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। साथ ही बर्फबारी होने के आसार हैं। वहीं, मैदानी इलाकों में मौसम शुष्क बना रह सकता है। रुड़की में फिर बदला मौसम का मिजाज, खिली रही तेज धूप रुड़की शिक्षानगरी में रविवार को मौसम ने फिर से करवट बदल दी। दिनभर तेज धूप खिली रही। इस वजह से दिन के तापमान में पांच डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की गई। शनिवार की तुलना में रविवार को शहर का अधिकतम तापमान 19.5 डिग्री सेल्सियस से छलांग लगाकर 24.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। जबकि न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस रेकॉर्ड किया गया। शहर और आसपास के क्षेत्रों में पिछले कुछ दिन से मौसम का मिजाज बार-बार बदल रहा है। शनिवार को बूंदाबांदी होने के साथ ही दिनभर बादलों की आवाजाही का खेल चला था। इस वजह से दिन का तापमान लुढ़ककर 19.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया था लेकिन रविवार को मौसम ने फिर से करवट बदल दी। सुबह से ही मौसम साफ रहा और धूप खिल गई। वहीं दिन चढ़ने के साथ-साथ धूप की चमक और तीखी होती गई। पिछले दिनों तक जहां धूप नागरिकों को भा रही थी, वहीं अब तीखी धूप चुभने लगी है। हालांकि सुबह और शाम मौसम में ठंडक घुली हुई है। उधर, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की के जल संसाधन विकास एवं प्रबंधन विभाग में संचालित ग्रामीण कृषि-मौसम सेवा परियोजना से मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को मौसम साफ रहने और धूप खिलने का पूर्वानुमान है।
Main Slider राष्ट्रीय

पंजाब में बारिश के बाद खिली धूप तो दिल्ली में तेज हवा ने बढ़ाई ठंड, जानिए उत्तर भारत के अन्य राज्यों का मौसम

राजधानी दिल्ली में बीते शुक्रवार बारिश और ओले पड़ने के बाद से मौसम में हल्की ठंडक महसूस की जा रही है. मौसम विभाग की माने तो विशेषज्ञों का मनना है कि अगले सप्ताह की शुरूआत यहां हल्की बारिश से हो सकती है. इस बीच तेज हवाओं ने भी मौसम को सर्द करने का काम किया है. IMD की माने तो दिल्ली में रविवार को अधिकतम तापमान सामान्य के बराबर 25.2 और न्यूनतम तापमान सामान्य के बराबर 12.1 डिग्री सेल्सियस रहा.
दिल्ली के कुछ क्षेत्रों में आज की सुबह हल्की बूंदाबूंदी भी दर्ज की गई है. वहीं नमी का स्तर 40 से 93 फीसदी रहा. मौसम विभाग की माने तो उत्तर भारत में मौसम के बदलाव का कारण पश्चिम विक्षोभ है. इसके प्रभाव से यूपी, पंजाब और हरियाणा के मध्य भागों में हल्की बारिश की संभावना है. वहीं इन राज्यों के अलावा असम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, पश्चिम बंगाल और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के दक्षिणी हिस्सों में तेज बारिश हो सकती है. बिहार  बिहार में खिलती धूप को देखते हुए लोगों ने ठंड को अलविदा कहना शुरू कर दिया था. लेकिन रविवार की सुबह बिहार के कई जिलों में बारिश हुई. इस बीच तेज हवाओं ने मौसम में एक बार फिर ठंड ला दी है. मौसम विभाग की माने तो यहां आने वाले दो दिनों में बारिश हो सकती है जबकि तेज हवाओं का ये सिलसिला कुछ दिन और चलेगा. पंजाब  पंजाब में शुक्रवार औ शनिवार को बारिश और तेज हवाओं के बाद रविवार को धूप के खिलते ही ठंड से राहत मिल गई. IMD की माने तो यहां कल और परसो भी मौसम साफ रहेगा. हालांकि 1 मार्च से मौसम बदलेने के आसार हैं और 2 मार्च से वैस्टर्न डिस्टर्बेंस के सक्रिय होने से बादल दोबारा से पंजाब में लौटेंगे. हरियाणा वेस्टर्न डिस्टर्वेंस के एक्टिव होने के कारण बीते दिन हरियाणा में तेज बारिश हुई वहीं कहीं कहीं ओलावृष्टि की भी खबरे सामने आ रही थी. इसके बाद तेज हवा चलने से शाम के समय लोगों को फिर से सर्दी महसूस होने लगी है. बता दें कि हरियाणा में रविवार से पहले ठंड ने अलविदा कह दिया था. धूप के कारण लोगों को रात के समय गर्मी का अहसास हो रहा था.
राष्ट्रीय

देश में कोरोना मामलों में बढ़ी गिरावट, 10 हजार से कम आए कोविड केस, 24 घंटे में इतने लोगो की मौत

भारत में कोरोना की तीसरी लहर का प्रकोप अब लगभग खत्म हो गया है. देश में दो महीने बाद पहली बार 10 हजार से कम कोरोना केस दर्ज किए गए हैं. पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 8,013 नए केस सामने आए और 119 संक्रमितों की मौत हो गई. अच्छी बात ये है कि पिछले 24 घंटे में 16,765 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं यानी कि 8871 एक्टिव केस कम हो गए. इससे पहले पिछले साल 29 दिसंबर को 9195 कोरोना केस आए थे.
कोरोना महामारी की शुरुआत से लेकर अबतक कुल चार करोड़ 29 लाख 24 हजार 130 लोग संक्रमित हुए हैं. इनमें से 5 लाख 13 हजार लोगों की मौत हो चुकी है. अबतक 4 करोड़ 23 लाख लोग ठीक भी हुए हैं. देश में कोरोना एक्टिव केस की संख्या करीब 1 लाख है. कुल 1 लाख 2 हजार 601 लोग अभी भी कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, जिनका इलाज चल रहा है.
  • कोरोना कुल मामले: 4 करोड़ 29 लाख 24 हजार 130
  • सक्रिय मामले: 1 लाख 2 हजार 601
  • कुल रिकवरी: 4 करोड़ 23 लाख 7 हजार 686
  • कुल मौतें: 5 लाख 13 हजार 843
  • कुल वैक्सीनेशन: 177 करोड़ 50 लाख 86 हजार 335
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, 27 फरवरी 2022 तक देशभर में 177 करोड़ 50 लाख 86 हजार कोरोना वैक्सीन के डोज दिए जा चुके हैं. बीते दिन 4 लाख 90 हजार टीके लगाए गए. वहीं भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, अबतक करीब 77 करोड़ कोरोना टेस्ट किए जा चुके हैं. बीते दिन करीब 7 लाख कोरोना सैंपल टेस्ट किए गए. देश में कोरोना से मृत्यु दर 1.20 फीसदी है जबकि रिकवरी रेट 98.56 फीसदी है. एक्टिव केस 0.24 फीसदी हैं. कोरोना एक्टिव केस मामले में दुनिया में भारत अब 51वें स्थान पर है. कुल संक्रमितों की संख्या के मामले में भारत दूसरे स्थान पर है. जबकि अमेरिका, ब्राजील के बाद सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है.
उत्तराखंड प्रदेश

उत्‍तराखंड में बदला मौसम का मिजाज, चोटियों पर हिमपात, निचले इलाकों में बारिश

देहरादून, उत्तराखंड में मौसम का मिजाज बदला हुआ है। चोटियों पर हिमपात हुआ, जबकि निचले इलाकों में हल्की बारिश हुई। मैदानी इलाकों में मौसम शुष्क बना रहा, लेकिन ऊंचाई वाले इलाकों में भारी बर्फबारी के चलते कुछ स्थानों पर मार्ग अवरुद्ध हैं। वहीं, बदरीनाथ हाईवे हनुमानचट्टी के पास बंद है। आज शनिवार सुबह देहरादून समेत कई जिलो में हल्‍की बारिश हो रही है। जिससे एक बार फिर ठंड लौटकर आ गई हैं।

जौनसार-बावर की ऊंची चोटियों पर हुई बर्फबारी

मौसम के एकाएक करवट बदलने से जौनसार-बावर की ऊंची चोटियों पर सीजन का छठवां हिमपात हुआ। क्षेत्र के ऊंचे इलाकों में हल्की बर्फबारी होने से मौसम सुहाना हो गया। बर्फबारी का नजारा देखने कई लोग लोखंडी व कोटी-कनासर पहुंचे। बर्फबारी के चलते क्षेत्र में ठंड बढ़ने से लोग बेहाल है।

कुमाऊं मंडल के अनेक स्थानों पर हो सकती है हल्की से मध्यम बारिश

पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने से कुमाऊं में भी मौसम में बदलाव की संभावना है। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार शनिवार को कुमाऊं मंडल के अनेक स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। साथ ही गरज के साथ बौछारें भी पड़ सकती हैं। वहीं, तीन हजार मीटर से ऊंचाई वाले इलाकों में हिमपात होगा। साथ ही कहीं कहीं पर ओलावृष्टि हो सकती है।

ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी तो मैदानी क्षेत्रों में ओलावृष्टि के आसार

राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, आज भी उत्‍तराखंड के कई जनपदों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। वहीं, तीन हजार मीटर से अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी के आसार हैं। वहीं, पर्वतीय जिलों में कहीं कहीं ओलावृष्टि भी हो सकती है।

उत्तराखंड प्रदेश

सीएम धामी ने यूक्रेन में फंसे 154 लोगों की लिस्ट केंद्र को भेजी, हेल्पलाइन नंबर जारी

उत्तराखंड सरकार ने यूक्रेन में फंसे 154 राज्यवासियों की पहली लिस्ट विदेश मंत्रालय को उपलब्ध करा दी है। हालांकि राज्य के विभिन्न जिलों से कुछ और लोगों के भी यूक्रेन में फंसे होने की सूचना आ रही है। लेकिन गृह विभाग प्रमाणित नामों को ही केंद्र सरकार के पास भेज रहा है। यह संख्या बढ़नी तय है।

गृह विभाग ने गुरुवार को हेल्पलाइन नंबर जारी करने के साथ ही सभी डीएम, एसएसपी को भी अपने- अपने जिलों से यूक्रेन में फंसे लोगों की जानकारी लेने को कहा था। इस कारण दिनभर जिलों के पुलिस कंट्रोल रूम के नंबर व्यस्त रहे, सर्वाधिक व्यस्तता देहरादून में 112 के मुख्यालय में रही, यहां 83 कॉल दर्ज की गई।

शुक्रवार देर शाम अपर सचिव गृह रिद्धिम अग्रवाल ने बताया कि ऐसे 154 उत्तराखंडवासियों की पहली लिस्ट केंद्र सरकार को भेज दी गई है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा और भी लोगों ने अपने परिजनों के युद्धग्रस्त देश में फंसे होने की जानकारी दी है।

दो नोडल अधिकारी तैनात :गृह विभाग ने यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के लोगों की जानकारी जुटाने के लिए दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को नोडल अधिकारी के रूप में तैनात किया है। डीआईजी पी रेणुका देवी और एसपी कानून व्यवस्था प्रमोद कुमार को यह जिम्मेदारी दी गई है।

देर शाम पी रेणुका देवी ने बताया कि उनके पास आठ लोगों के परिजनों ने सम्पर्क कर, अपने परिजनों के यूक्रेन में फंसे होने की जानकारी दी है, एसपी प्रमोद कुमार के पास भी दो कॉल आई हैं। उन्होंने बताया कि फिलहाल वहां सभी भारतीय सुरक्षित हैं। अभी तक की जानकारी के अनुसार देहरादून के 43, हरिद्वार 26,टिहरी 10, चमोली 02, रुद्रप्रयाग 05, पौड़ी 13, उत्तरकाशी 07, ऊधमसिंह नगर  20, नैनीताल14, पिथौरागढ़ 02, नैनीताल 22, अल्मोड़ा 01, चम्पावत के 04 छात्र और लोग यूक्रेन में फंसे हैं।

हेल्पलाइन नंबर
पी रेणुका देवी (नोडल अधिकारी) : 7579278144
प्रमोद कुमार (सहायक नोडल अधिकारी): 9837788889
आपातकालीन नंबर: 112 (टोल फ्री)
उत्तराखंड सदन : 011-26875614-15

नई दिल्ली स्थित उत्तराखंड के मुख्य स्थानिक आयुक्त कार्यालय को विदेश मंत्रालय के सम्पर्क में रहने को कहा गया है। इसके साथ ही सभी जिलाधिकारियों को अपने-अपने जिलों से फंसे लोगों का विवरण लेकर शासन तक पहुंचाने को कहा गया है। सरकार हर परिवार की चिंता में शामिल है।
पुष्कर सिंह धामी, मुख्यमंत्री   

Main Slider राष्ट्रीय

दिल्ली में मौसम ने ली करवट, इन राज्यों में बारिश और बर्फबारी, जानिए आपके शहर में कैसा रहेगा….

उत्तर भारत में पिछले कई दिनों से छूप खिलने के कारण अनुमान लगाया जा रहा था कि जल्द ही देश से ठंड की विदाई हो जाएगी लेकिन कल यानी शुक्रवार को मौसम ने एक बार फिर करवट बदल ली. दरअसल कल शाम दिल्ला एनसीआर के कई हिस्सों में तेज बारिश हुई. इस दौरान हवा की रफ्तार भी तेज थी जिसके कारण राजधानी में एक बार फिर ठंड ने लोगों को सताना शुरू कर दिया है.

दिल्ली के द्वारका, उत्तम नगर समेत कई इलाके में बीती रात तेज बारिश के साथ ओले भी पड़े. हालांकि मौसम में इस परिवर्तन की आशंका IMD ने पहले ही जता दिया था. मौसम विभाग की माने तो इस बारिश का कारण वेस्टर्न डिस्टरबेंस है जिसके प्रभाव से राजधानी का मौसम बदला और शुक्रवार शाम और रात में तेज बारिश हुई. वहीं IMD के अनुसार यहां आज यानी शनिवार को भी हल्की बारिश हो सकती है और दिन में ठंड महसूस होगी. रविवार से मौसम साफ हो जाएगा.

इन राज्यों में हल्की बारिश

मौसम विभाग की माने तो उत्तर भारत के भागों पर पश्चिमी विक्षोभ है जिसके कारण आज पंजाब, राजस्थान और माध्य प्रदेश में भी हल्की बारिश हो सकती है. साथ ही इस विक्षोभ के कारण दक्षिण-पश्चिमी हवाएं चलेंगी, जिसके कारण ओडिशा और छत्तीसगढ़ और आंध्र प्रदेश में भी आज आसमान में बादल छाए रहने की आशंका है. पूर्वी और पूर्वोत्तर भारत के राज्यों पर भी बादल का पहरा छाया रह सकता है. जिससे उम्मीद है कि यहां अगले 24 घंटों के दौरान मौसम सक्रिय हो सकता है. इसके अलावा दक्षिण में केरल और तमिलनाडु में भी आज बारिश हो सकती है.

पहाड़ी इलाकों में भी बारिश

IMD की माने तो पश्चिमी विक्षोभ के चलते उत्तर भारत के पहाड़ी इलाकों पर भी आज बारिश हो सकती है. जम्मू-कश्मीर में श्रीनगर, गुलमर्ग, कुलगाम, काजीगुंड, पहलगाम से लेकर कटरा, उधमपुर, समेत सीमावर्ती इलाकों में भी  तेज हवाओं के साथ बारिश होने की संभावना है.

इसके अलावा उत्तराखंड में उत्तरकाशी से लेकर अल्मोड़ा, पिथौरागढ़ के नेपाल से सटे हिस्से में कल बारिश होने के बाद आज भी मौसम खराब रहने की आशंका है. निचले इलाकों में हृषिकेश और हरिद्वार, नैनीताल में बादल जरूर रहेंगे लेकिन वर्षा की संभावना काफी काम है. गिलगित, बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद से लेकर लद्दाख तक में भी बारिश का पूर्वानुमान है.

बड़ी खबर राष्ट्रीय

यूक्रेन संकट: भारतीयों को निकालने में जुटी सरकार, हंगरी और रोमानिया के लिए आज रवाना होंगे दो विमान

यूक्रेन में रूस के हमलों का आज तीसरा दिन है. वॉर जोन में अभी भी करीब 20 हजार भारतीय फंसे हुए हैं. आज एअर इंडिया यूक्रेन में फंसे भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए अपनी तीन उड़ानें रोमानिया की राजधानी बुखारेस्ट और एक उड़ान हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट भेजेगा. भारतीय नागरिक सड़क मार्ग से यूक्रेन-रोमानिया सीमा पर पहुंच गये हैं, उन्हें भारत सरकार के अधिकारी बुखारेस्ट ले जायेंगे, ताकि उन्हें एअर इंडिया की इन दो उड़ानों के जरिए स्वदेश लाया जा सके.

यात्री विमानों के परिचालन के लिए यूक्रेन का वायु क्षेत्र बंद

बृहस्पतिवार को यूक्रेन के अधिकारियों ने यात्री विमानों के परिचालन के लिए अपने देश का वायु क्षेत्र बंद कर दिया था, इसलिए भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए ये उड़ानें बुखारेस्ट और बुडापेस्ट से परिचालित की जा रही हैं. अधिकारियों की टीम उझोरोद के पास चोप-जाहोनी हंगरी सीमा, चेर्नीवत्सी के पास पोरब्ने-सीरेत रोमानियाई सीमा चौकियों पर पहुंच रही है.

यूक्रेन में फिलहाल करीब 20,000 भारतीय फंसे

दूतावास ने कहा कि इन सीमा जांच चौकियों के करीब रह रहे भारतीय नागरिकों, विशेष कर छात्रों को विदेश मंत्रालय के दलों के साथ समन्वय कर व्यवस्थित तरीके से रवाना होने की सलाह दी जाती है. अधिकारियों का कहना है कि यूक्रेन में फिलहाल करीब 20,000 भारतीय फंसे हुए हैं जिनमें ज्यादातर विद्यार्थी हैं. दूतावास ने भारतीयों को अपना पासपोर्ट, नकदी (प्राथमिक रूप से डॉलर में), अन्य आवश्यक वस्तुएं और कोविड टीकाकरण प्रमाणपत्र सीमा जांच चौकियों पर अपने पास रखने की सलाह दी है. दूतावास ने कहा है, ‘‘भारतीय ध्वज का (कागज पर) प्रिंट निकाल लें और यात्रा के दौरान वाहनों तथा बसों पर उन्हें चिपका दें.’’

यूक्रेन से पड़ोसी देशों का फासला कितना?

यूक्रेन की राजधानी कीव और रोमानिया की सीमा के बीच करीब 600 किलोमीटर का फासला है और सड़क मार्ग से यह दूरी तय करने में साढ़े आठ से 11 घंटे लगते हैं. रोमानियाई सीमा जांच चौकी से बुखारेस्ट करीब 500 किलोमीटर की दूरी पर है तथा सड़क मार्ग से उसे तय करने में करीब सात से नौ घंटे लगते हैं. वहीं, कीव और हंगरी की सीमा के बीच करीब 820 किमी की दूरी है और इसे सड़क मार्ग से तय करने में 12-13 घंटे लगते हैं.

राष्ट्रीय

देश में कोरोना के मामलों में लगातार गिरावट, पिछले 24 घंटों में इतने केस हुए दर्ज

देश में जानलेवा कोरोना वायरस महामारी के मामलों में अब लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 11 हजार 499 नए केस सामने आए हैं और 255 लोगों की मौत हो गई. कल 13 हजार 166 मामले दर्ज किए गए थे. यानी कल की तुलना में आज मामले 12.6 फीसदी घटे हैं. जानिए देश में कोरोना की ताजा स्थिति क्या है.

एक्टिव केस घटकर 1 लाख 21 हजार 881 हुए

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब एक्टिव मामलों की संख्या घटकर 1 लाख 21 हजार 888 हो गई है. वहीं, इस महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 5 लाख 13 हजार 481 हो गई है. आंकड़ों के मुताबिक, अभी तक 4 करोड़ 22 लाख 70 हजार 482 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं.

दिल्ली में फरवरी तक ओमिक्रोन के कारण 191 मरीजों की हुई मौत

दिल्ली में कोविड-19 से जान गंवाने वाले लोगों से इस साल 22 फरवरी तक लिये गये नमूनों में 80 प्रतिशत में ओमीक्रोन स्वरूप पाया गया है. सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है. मृतकों से एत्रक किये गये 239 नमूनों के जीनोम अनुक्रमण से पता चला है कि उनमें से 191 में कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप थे. शेष 48 (20 प्रतिशत) नमूनों में डेल्टा सहित कोरोना वायरस के अन्य स्वरूप पाये गये.

13 जनवरी को आए थे सबसे अधिक मामले

डेल्टा स्वरूप पिछले साल अप्रैल और मई में महामारी की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार रहा था. आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में इस साल 22 फरवरी तक जीनोम अनुक्रमण प्रयोगशालाओं में कुल 626 नमूनों के विश्लेषण में 92 में ओमीक्रोन स्वरूप पाये गये. कुल नमूनों में दो प्रतिशत में डेल्टा स्वरूप और छह प्रतिशत अन्य स्वरूप पाये गये. दिल्ली में कोविड के मामले 13 जनवरी को 28,867 की रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने के बाद से घट रहे हैं.

अबतक करीब 177 करोड़ खुराक दी गईं

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण मुहिम के तहत अभी तक कोरोना वायरस रोधी टीकों (Corona Vaccine) की करीब 177 करोड़ से खुराक दी जा चुकी हैं. कल 28 लाख 29 हजार 582 डोज़ दी गईं, जिसके बाद अबतक वैक्सीन की 177 करोड़ 17 लाख 68 हजार 379 डोज़ दी जा चुकी हैं. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, स्वास्थ्यकर्मियों, कोरोना योद्धाओं और 60 साल से ज्यादा आयु वाले अन्य बीमारियों से ग्रस्त लोगों को 1.98 करोड़ से ज्यादा (1,98,63,260) एहतियाती टीके लगाए गए हैं. देश में कोविड रोधी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 से शुरू हुआ और पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया. वहीं, कोरोना योद्धाओं के लिए टीकाकरण अभियान दो फरवरी से शुरू हुआ था.

उत्तराखंड प्रदेश

उत्तराखंड में बारिश और बर्फबारी का दौर जारी, जानें मौसम का हाल

देहरादून: उत्तराखंड में बारिश और बर्फबारी का दौर जारी रहा। चार धाम समेत राज्य के ऊंचाई वाले इलाकों में जोरदार बर्फबारी हुई है। निचले इलाकों में ओलावृष्टि से ठंड बढ़ गई है। बर्फबारी से कुछ स्थानों पर मार्ग भी अवरुद्ध हुए हैं। मौसम विभाग के अनुसार, अभी दो दिन प्रदेश में बारिश और बर्फबारी का दौर जारी रह सकता है।

देहरादून और आसपास के इलाकों में देर शाम मौसम का मिजाज बदला और बादल छाने के साथ ही तेज हवाएं चलने लगीं। देर रात अंधड़ और तेज बारिश ने दूनवासियों की नींद उड़ा दी। गरज के साथ आकाशीय बिजली चमकने से लोग सहमे रहे। इस दौरान शहर के ज्यादातर इलाकों में बिजली गुल हो गई।

गुरुवार सुबह दून में धूप खिलने के बाद मौसम ने करवट बदली और दोपहर बाद कई इलाकों में बौछारें पड़ीं। इसके बाद रात को 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। इस दौरान कई स्थानों पर दुकानों के होर्डिंग और टिन शेड उड़ने की भी सूचना है। साथ ही कुछ इलाकों में पेड़ की टहनियां टूटने से मार्ग भी बाधित हुए। विद्युत लाइन क्षतिग्रस्त होने से कई इलाकों में बत्ती गुल रही।

पुरोहितवाला में पेड़ पर गिरी आकाशीय बिजली

दून में बदले मौसम के बीच दोपहर बाद कई क्षेत्रों में गरज के साथ बौछार पड़ीं। इस दौरान पुरोहितवाला में एक पेड़ पर आकाशीय बिजली गिरने से हड़कंप मच गया। गनीमत रही कि इसमें जानमाल का कोई नुकसान नहीं हुआ। गुरुवार को वीरपुर सैन्य क्षेत्र में बसे पुरोहितवाला में दोपहर बाद अचानक आकाशीय बिजली गिरी। मसूरी विधायक और कैबिनेट मंत्री गणोश जोशी सूचना मिलते ही नुकसान का जायजा लेने पहुंचे। उन्होंने कहा कि भगवान का शुक्र है आकाशीय बिजली गिरने से जान की कोई क्षति नहीं हुई। मंदिर व एक पेड़ को थोड़ा नुकसान हुआ है। उधर, घटना की सूचना मिलते ही ग्राम प्रधान मीनू क्षेत्री, पार्षद भूपेंद्र कठैत, कैंट थाना प्रभारी शंकर सिंह बिष्ट आदि भी मौके पर पहुंच गए थे।

बारिश और ओले गिरने से मसूरी में ठंडक

शहर और आसपास के क्षेत्र में बारिश और ओले गिरने से एक बार फिर से ठंडक बढ़ गई है। जबकि समीपवर्ती यमुना व अगलाड़ घाटियों में भी ठिठुरन बढ़ गई है। ओले गिरने के कारण सड़कों पर फिसलन की स्थिति रही। हालांकि, बारिश के कारण ओले ज्यादा देर तक टिक नहीं पाए।

मसूरी शहर और उससे सटे क्षेत्र में गुरुवार दोपहर बाद बारिश के साथ ओले गिरने शुरू हो गए। इस बीच रुक-रुक कर करीब दो घंटे तक ओले गिरने के साथ बारिश भी हुई। इससे फिर से मसूरी में ठिठुरन बढ़ गई है। इस कारण सबसे अधिक परेशानी स्कूली बच्चों को हुई। सुबह जब बच्चे स्कूल गए तो आसपास में खाली बादल थे, लेकिन दोपहर बाद बारिश शुरू हो गई। जिससे स्कूल से घर लौट रहे बच्चों को इससे परेशानी झेलनी पड़ी। वहीं, ठंड बढ़ने पर आमजन तो घरों के अंदर पैक हो गए। जबकि व्यापारियों अलावा सेक कर दुकानों का संचालन किया।