राष्ट्रीय

असम में बाढ़ का कहर जारी,7 लाख लोग प्रभावित, 9 लोगों की हुई मौत, कछार में दो दिन के लिए स्कूल-कालेज बंद

असम में बाढ़ का कहर जारी है. बाढ़ की स्थिति को देखते हुए कछार जिला प्रशासन ने जिले के सभी शैक्षणिक संस्थानों (सरकारी और निजी) और गैर जरूरी निजी प्रतिष्ठानों को 48 घंटे (19 और 20 मई) के लिए बंद कर दिया है.

साढ़े छह लाख से ज्यादा लोग प्रभावित, 9 की मौत

असम में बाढ़ की स्थिति बुधवार को और खराब हो गई। दरांग जिले में बाढ़ के चलते एक और व्यक्ति की मौत हो गई। इसके बाद अब असम में मौजूदा प्री-मानसून बाढ़ और भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर नौ हो गई है। वहीं राज्य के 34 जिलों में से 27 में 6.62 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अधिकारियों के अनुसार, 1,25,491 बच्चों और 2,44,216 महिलाओं सहित कम से कम 6,62,385 लोग प्रभावित हुए हैं और 27 जिलों के 1,414 गांवों में लगभग 8,260 घर आंशिक रूप से और पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं।

कई इलाकों में भूस्खलन

भारी बारिश के चलते कई इलाकों में भूस्खलन भी हुआ है। न्यू कुंजंग, फियांगपुई, मौलहोई, नामजुरंग, दक्षिण बगेतार, महादेव टीला, कालीबाड़ी, उत्तरी बगेतर, सिय्योन और लोदी पंगमौल गांवों से भूस्खलन की सूचना मिली है। भूस्खलन के कारण जतिंगा-हरंगाजाओ और माहूर-फिडिंग में रेलवे लाइन ब्लाक हो गई है।

अर्धसैनिक बल, एसडीआरएफ तैनात

राहत और बचाव कार्य के लिए सेना, अर्धसैनिक बलों, अग्निशमन और आपातकालीन सेवाओं, एसडीआरएफ, नागरिक प्रशासन और प्रशिक्षित स्वयंसेवकों को तैनात किया है। कछार जिला प्रशासन और असम राइफल्स के बीच एक संयुक्त उद्यम ने बाराखला इलाके में बाढ़ पीड़ितों को बचाया और उन्हें राहत शिविरों में भेजा है।