उत्तराखंड

उत्‍तराखंड पुलिस भर्ती में शारीरिक दक्षता परीक्षा में भाग लेने आए युवक द्वारा ठगी करने का मामला आया सामने

इन दिनों उत्‍तराखंड में पुलिस विभाग की भर्ती चल रही है। विभिन्‍न जिलों में शारीरिक दक्षता परीक्षा आयोजित की जा रही है। वहीं इस दौरान शारीरिक दक्षता परीक्षा में भाग लेने आए युवक द्वारा ठगी करने का मामला सामने आया है।

अवैध वसूली करते तीन आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार किया

देहरादून के वसंत विहार क्षेत्र में पीएनजी (पाइप्ड नेचुरल गैस) के कनेक्शन में मीटर लगाने के नाम पर अवैध वसूली करते तीन आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपितों में से एक ने वर्तमान में चल रही पुलिस कांस्टेबल भर्ती में आवेदन कर रखा है।

परीक्षा देने के बाद ठगी करने पहुंच गया आरोपित

वह बुधवार को शारीरिक दक्षता परीक्षा देने के लिए दून आया था और यह परीक्षा देने के बाद ठगी करने पहुंच गया। वहीं, एक अन्य आरोपित देहरादून में पीएनजी की पाइपलाइन बिछा रही गेल गैस लिमिटेड में काम कर चुका है। पुलिस ने आरोपितों से गेल गैस कंपनी के फर्जी आइडी कार्ड और रसीद बुक भी बरामद की है।

हर घर से 475 रुपये वसूल रहे थे आरोपित

थानाध्यक्ष वसंत विहार नरेश राठौर ने बताया कि बुधवार को तीन युवक वसंत विहार क्षेत्र में पीएनजी के कनेक्शन में मीटर लगाने के लिए हर घर से 475 रुपये वसूल रहे थे। आरोपित कुछ दिन बाद मीटर लगाने का झांसा दे रहे थे। आरोपित कई घरों में वसूली करने के बाद इंदिरा नगर निवासी मोहित अरोड़ा के घर पहुंचे। मोहित ने शक होने पर युवकों से पूछताछ शुरू की तो वह बहाना बनाकर वहां से खिसक गए।

मोहित ने इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी। थानाध्यक्ष ने बताया कि तुरंत पुलिस की एक टीम को मौके पर भेजकर आरोपितों को दबोच लिया गया। आरोपितों की पहचान गांव रामकरण जिला हरिद्वार निवासी जानी कुमार व मोहन सिंह और ग्राम मेहतपुर सती कलां जिला हरिद्वार निवासी गुरनाम सिंह के रूप में हुई है। पूछताछ में आरोपितों ने 12 व्यक्तियों से ठगी करने की बात कबूली।

आरोपित मोहन ने बताया कि वह पहले गेल गैस कंपनी में काम करता था। इसलिए उसे कंपनी की कार्यप्रणाली के बारे में पता है। किसी कारण छह महीने पहले उसे कंपनी ने नौकरी से हटा दिया था। उसने जानी और गुरनाम को अपने साथ शामिल किया और कंपनी के फर्जी पहचान पत्र व रसीद बुक बनवाई।

ठगी से कुछ देर पहले दी शारीरिक दक्षता की परीक्षा

थानाध्यक्ष वसंत विहार ने बताया कि जानी ने इस समय पुलिस विभाग में चल रही कांस्टेबल भर्ती के लिए आवेदन कर रखा है। दून में रिजर्व पुलिस लाइन में चल रही भर्ती में उसने बुधवार को शारीरिक दक्षता परीक्षा में हिस्सा लिया और फिर अपने साथियों के साथ धोखाधड़ी करने वसंत विहार पहुंच गया।