राजनीति राष्ट्रीय

उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा, गृह मंत्री ने कही यह बात

भोपाल: महाराष्ट्र उद्धव सरकार गिर चुकी है। बुधवार को उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। इसके पश्चात् भी विपक्षी दलों का हमला उनपर जारी है। इसी कड़ी में मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि मेरा देश बदल रहा है। पहली बार ऐसा हुआ है जब हिंदुत्व के नाम पर सरकार गिरी है। इस के चलते उन्होंने शिवसेना सांसद संजय राउत पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि संजय राउत बोल रहे थे कि विधायक अगवा हो गए हैं, वह भूल गए कि अगवा नहीं भगवा हो गए हैं।

इसके साथ ही मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने हनुमान चालीसा विवाद को लेकर भी उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार का गिरना हनुमान चालीसा का प्रभाव है कि 40 दिन में 40 MLA पार्टी छोड़ गए। आगे नरोत्तम मिश्रा ने कहा, “कदली, सीप, भुजंग-मुख,स्वाति एक गुन तीन। जैसी संगति बैठिए, तैसोई फल दी। कांग्रेस की संगत में जो आता है वो स्पष्ट हो जाता है। उद्धव ठाकरे कांग्रेस के संपर्क ‌में आए तो उनकी पार्टी ही साफ हो गई।

आपको बता दें कि शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे ने अपनी पार्टी के ही कई विधायकों के बागी हो जाने के पश्चात् बुधवार को देर शाम महाराष्ट्र के सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। वह शिवसेना की अगुवाई वाले महाविकास अघाड़ी की सरकार में सीएम थे। हालांकि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने उद्धव ठाकरे से कहा है कि नई व्यवस्था बनने तक वह बतौर कार्यवाहक सीएम काम करते रहें। उद्धव ठाकरे ने बुधवार को एक ऑनलाइन संबोधन के चलते इस्तीफे की घोषणा कर दी। इस के चलते उन्होंने यह भी कहा कि वह नहीं चाहते थे कि शिवसैनिकों का खून बहे।

उत्तराखंड प्रदेश

रुद्रप्रयाग में पहाड़ी से पत्थर गिरने से महिला तीर्थ यात्री की मौत, इतने घायल

देहरादून: आखिरकार उत्तराखंड में मानसून ने दस्तक दे दी है। इस बार मानसून अनुमानित समय से नौ दिन बाद पहुंचा है। इसी के साथ प्रदेश में वर्षा का क्रम भी तेज हो गया है।

मौसम विज्ञान केंद्र ने अगले तीन दिन प्रदेश में भारी से बहुत भारी वर्षा की संभावना जताते हुए रेड अलर्ट जारी किया है। इस दौरान भूस्खलन होने और नदी-नालों के उफान पर आने की भी आशंका है।

वहीं, आज सुबह से रुड़की, कोटद्वार, ऋषिकेश, डोईवाला, देहरादून, उत्‍तरकाशी और रुद्रप्रयाग में बारिश हो रही है। इससे मौसम सुहावना हो गया है। उत्तरकाशी में गंगोत्री और यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग अभी सुचारू।

वहीं, रुद्रप्रयाग में गौरीकुंड व सोनप्रयाग के बीच पहाड़ी से पत्थर गिरने के कारण एक महिला तीर्थ यात्री की मौत हो गई, जबकि तीन घायल हो गए हैं। पुलिस ने घायलों को अस्पताल लेकर गई। अभी मृतक की पहचान नहीं हो पाई है। वहीं, रुद्रप्रयाग में केदारनाथ हाईवे नोलापाडी में और बदरीनाथ हाइवे सिरोबगड़ में अवरूद्ध है।

बुधवार को झमाझम वर्षा के साथ उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर में दक्षिण-पश्चिम मानसून ने प्रवेश किया। बंगाल की खाड़ी में कम दबाव वाला क्षेत्र न बनने के कारण इस बार मानसून की गति धीमी रही।

ऐसे में केरल से मानसून को उत्तराखंड पहुंचने में इस बार पूरा एक माह लग गया। 29 मई को मानसून केरल पहुंचा था। जबकि, बीते वर्ष मानसून सामान्य समय से एक सप्ताह पूर्व ही प्रदेश में पहुंच गया था। तब केरल से उत्तराखंड पहुंचने में मानसून को महज 10 दिन लगे थे।

उत्तराखंड मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार, प्रदेश में अगले तीन दिन भारी वर्षा का रेड अलर्ट जारी किया गया है। इस दौरान देहरादून, नैनीताल, बागेश्वर, पिथौरागढ़ और चमोली में कहीं-कहीं भारी से बहुत भारी वर्षा हो सकती है।

ऐसे में पर्वतीय क्षेत्रों में भूस्खलन और अतिवृष्टि को लेकर सतर्क रहने की सलाह दी गई है। प्रदेश में मंगलवार रात से हो रही वर्षा के कारण पर्वतीय क्षेत्रों में भूस्खलन से कई संपर्क मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं। मैदानी क्षेत्रों में भी जलभराव और सड़कें धंसने की सूचना है।

उत्तराखंड प्रदेश

उत्तराखंड के गोपेश्वर में सड़क पर गिरा बोल्डर, बारिश ने लोगों की बढाई मुश्किलें

उत्तराखंड में मानसून आने के साथ ही मुश्किलों की शुरुआत हो गई है। चमोली जिले के मुख्यालय गोपेश्वर के कलक्ट्रेट की ओर जाने वाले बाईपास मार्ग पर गुरुवार सुबह बोल्डर आने से सड़क बाधित हो गई है। बद्रीनाथ हाइवे अभी सुचारू है। नई टिहरी में देर रात से लगातार बारिश हो रही है। हरिद्वार में मौसम में भी मौसम बदला है। सुबह 3 बजे से हो रही बारिश ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। ज्वालपुर के कटहरा बाजार में जलभराव हुआ है।

इससे पहले बीते बुधवार को केदारनाथ यात्रियों को लेकर लौट रहे वाहन पर पहाड़ी से पत्थर और मलबा गिर गया। इसमें एक महिला यात्री की मौत हो गई। 10 यात्री घायल हुए हैं। सभी घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें तीन गंभीर घायल हैं। घटना बुधवार शाम केदारनाथ हाईवे पर मुनकटिया के पास की है। भारी बारिश के बीच सोनप्रयाग से गौरीकुंड की ओर आ रहे यात्री वाहन पर पहाड़ी से मलबा और पत्थर गिर गया। मलबे में यात्री वाहन के दबे होने की सूचना पर एसडीआरएफ, पुलिस और डीडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू कर 10 लोगों को निकाला। महाराष्ट्र के अहमदनगर निवासी 62 वर्षीय पुष्पा के शव को वाहन काटकर निकाला गया। महाराष्ट्र के अहमदनगर निवासी ज्योति बाला काले, कल्पना काले, राम सालुंके, क्रशाना भाले, पटना(बिहार) निवासी गौतम कुमार, शिव कुमार, अंकित शर्मा, बडासू(रुद्रप्रयाग) निवासी रमेश सिंह, नेपाली नागरिक पलमन और टीकाराम को अस्पताल में भर्ती किया गया है।

राष्ट्रीय

पीएम मोदी ने MSME के लिए कई नई योजनाओं को दी हरी झंडी, कही यह बात

नई दिल्ली, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज विज्ञान भवन में ‘उद्यमी भारत’ कार्यक्रम में भाग लिया। पीएम मोदी ने इस कार्यक्रम के जरिए एमएसएमई के लिए कई नई योजनाओं को हरी झंडी दिखाई। इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत का एक्सपोर्ट लगातार बढ़े, भारत के प्राडक्ट्स नए बाजारों में पहुंचें इसके लिए देश के MSME सेक्टर का सशक्त होना बहुत जरूरी है। पीएम ने कहा कि हमारी सरकार इस क्षेत्र के सामर्थ्य, इस सेक्टर की असीम संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए निर्णय ले रही है और नई नीतियां बना रही है।

योजनाओं की नई विशेषताओं का किया शुभारंभ

पीएम ‘एमएसएमई के प्रदर्शन को बढ़ाने एवं तेज करने’ (आरएएमपी) और ‘पहली बार के निर्यातक एमएसएमई के लिए क्षमता निर्माण’ (सीबीएफटीई) योजना (सीबीएफटीई) और ‘प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम’ (पीएमईजीपी) योजानाओं की नई विशेषताओं की शुरुआत भी की।

राष्ट्रीय एमएसएमई पुरस्कार किए वितरित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के एमएसएमई क्षेत्र के विकास और विकास में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए एमएसएमई, राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों, आकांक्षी जिलों और बैंकों के योगदान की मान्यता के लिए राष्ट्रीय एमएसएमई पुरस्कार 2022 वितरित किए।

एमएसएमई के उत्थान के लिए सरकार वचनबद्ध

इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नरायण राणे ने कहा कि सरकार एमएसएमई के उत्थान के लिए वचनबद्ध है। उन्होंने कहा कि इसके लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं और इसी के चलते आज नई विशेषताओं का शुभारंभ किया जा रहा है।

पीएमईजीपी लाभार्थियों को दी  500 करोड़ से ज्यादा की डिजिटल सहायता 

पीएम मोदी ने योजनाओं की शुरुआत के साथ ही 2022-23 के लिए पीएमईजीपी के 18000 लाभार्थियों को डिजिटल रूप से 500 करोड़ से ज्यादा की सहायता राशि भी हस्तांतरित की। इस कार्यक्रम में एमएसएमई आइडिया हैकथान 2022 के परिणामों की घोषणा, राष्ट्रीय एमएसएमई पुरस्कार और आत्मनिर्भर भारत (एसआरआई) फंड में 75 एमएसएमई को डिजिटल इक्विटी प्रमाणपत्र भी जारी किए गए।

MSME के लिए पहले से चल रही कई योजनाएं

बता दें कि सरकार पहले भी समय-समय पर MSME क्षेत्र को आवश्यक और समय पर सहायता प्रदान करने के लिए MUDRA योजना, आपातकालीन क्रेडिट लाइन गारंटी योजना और पारंपरिक उद्योगों के उत्थान के लिए फंड की योजना (SFURTI) जैसी कई पहल शुरू कर चुकी है, जिससे करोड़ों लोगों को लाभ हुआ है।

पीएमईजीपी में अब मिलेगी कई सुविधाएं

‘प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम’ (पीएमईजीपी) की नई विशेषताओं के शुभारंभ से एमएसएमई को काफी फायदा होने वाला है। इसके तहत विनिर्माण क्षेत्र के लिए अधिकतम परियोजना लागत में 50 लाख रुपये (25 लाख रुपये से) और सेवा क्षेत्र में 20 लाख रुपये (10 लाख रुपये से) की वृद्धि की जाएगी। वहीं नई योजना के तहत अब आकांक्षी जिलों और ट्रांसजेंडरों के आवेदकों को भी इसमें शामिल किया जाएगा। साथ ही, आवेदकों और उद्यमियों को बैंकिंग, तकनीकी और विपणन विशेषज्ञों की नियुक्ति के माध्यम से सहायता प्रदान की जाएगी।

बड़ी खबर राष्ट्रीय

BSF के स्पेशल 70 जवानों की टीम को मिल रही यह ट्रेनिंग, देश के दुश्मनों का होगा काम तमाम

भारतीय सेना की स्पेशल फ़ोर्स के जाबांजो को जब भी कोई टास्क मिला, उन्होंने बिना रुके बिना थके देश के दुश्मनों का काम तमाम कर ही वापस लौटे. चाहे उरी हमले के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) में सर्जिकल स्ट्राइक करना हो या फिर म्यांमार में छुपे उग्रवादियों को ढेर करना हो, हिंदुस्तान की पैरा फ़ोर्स ने अपना काम बखूबी किया. अब यही खास पैरा  BSF के जवानों को स्पेशल ट्रेनिंग दे रही है जिससे उन्हें और और ज्यादा घातक बनाया जा सके.

जैसी चुनौतियां वैसी तैयारियां

लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर जैसी चुनौतियां है. सुरक्षा बलों की वैसी ही तैयारी है.ऐसा पहली बार हो रहा है कि LoC पर तैनात होने वाले BSF के कमांडो को आर्मी की 7 पैरा कमांडो फोर्स ट्रेनिंग दे रही है. BSF के 70 कमांडो जो हाल ही में शिलांग से जम्मू कश्मीर (Jammu-kashmir) पहुंचे है. उनको इस बार बॉर्डर पर तैनाती से पहले आर्मी के पैरा कमांडो के जरिए खास ट्रेनिंग दिलाई जा रही है.

आर्मी और BSF का ज्वाइंट वेंचर

एलओसी पर जिस तरीक़े की ऑपरेशनल जरूरतें है उसको आर्मी और BSF एक साथ मिलकर तैयार कर रही है. BSF के IG कश्मीर रेंज राजा बाबू सिंह ने ज़ी मीडिया से खास बातचीत में BSF और 7 पैरा कमांडो के साथ ट्रेनिंग के बारे में जानकारी देते हुये कहा, ‘कश्मीर थिएटर पर लाइन आफ कंट्रोल को गार्ड करना बड़ी चुनौती होती है यहां ज्यादा चैलेंज और टफनेस की जरूरत है. पहले भी हमारी जो पलटन एलओसी (LoC) पर तैनात होने के लिए आती थीं उनके जवानों को भी एक खास प्री इंडक्शन ट्रेनिंग सेशन के जरिए ट्रेंड किया जाता था. लेकिन ये नए दौर का कश्मीर है जिसमें नए चैलेंज हैं. इसलिए हमने स्पेशल फोर्सेज में जो आर्मी के पैरा कमांडो है उनसे बात करने के बाद ये प्लान बनाया है कि उनकी जो पलटन केरन सेक्टर में तैनात होने के लिए आई है उसके ट्रेनर हमारी टीम को और मजबूत बनाएंगे.’

यूं ढेर होंगे PoK में मौजूद 600 आतंकवादी

बताते चलें कि खुफिया एजेंसियों की एक रिपोर्ट के मुताबिक PoK में स्थित 11 टेरर कैंपो में 500-600 आतंकियों के होने की जानकारी मिली है. इनमें से 200 के करीब आतंकी लांच पैड पर मौजूद हैं जो घुसपैठ के इंतजार में हैं. ऐसे में पैरा फोर्सेज की ट्रेनिंग से तैयार BSF के जवान आतंकियों से और बेहतर तरीके से निपट सकेंगे.

BSF के स्पेशल 70 जवानों की टीम को हथियार चलाने से लेकर दुश्मनों के हाईड आउट को तबाह करने की ट्रेनिंग मिल रही है. BSF के सभी जवान 97 बटालियन के हैं.

Main Slider राष्ट्रीय

मौसम विभाग ने जारी की दिल्ली सहित इन राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी…

उत्तर भारत में पड़ रही गर्मी से आज राहत मिलने के आसार हैं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज, 29 जून को गर्मी के बीच बारिश होने की संभावना हैं। वहीं, एक-दो दिन में मानसून राजधानी दिल्ली में दस्तक दे सकता है। इसके बाद रोजाना झमाझम बारिश होगी। हालांकि, राजधानी में आज अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है।
मौसम विभाग के मुताबिक राजधानी दिल्ली व आसपास के इलाकों में बारिश की संभावना है। गुजरात के अहमदाबाद में आंधी-तूफान के साथ बारिश होगी। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में भी आज बारिश के आसार हैं। इसके अलावा, चंडीगढ़ की बात करें तो यहां न्यूनतम तापमान 31 डिग्री सेल्सियस रहेगा, जबकि अधिकतम तापमान 37 डिग्री सेल्सियस तक जाएगा। आंधी तूफान और बारिश की संभावना है। उत्तराखंड में भी तेज बारिश का सिलसिला शुरू हो गया है। राजस्थान के जयपुर की बात करें तो यहां भी आंधी पानी जारी रहेगा। यूपी-बिहार की बात करें तो दोनों जगह आज कई जिलों में बारिश की संभावना है। दिल्ली में कल मानसून दे सकता है दस्तक मौसम विभाग के मुताबिक राजधानी दिल्ली में बुधवार यानी आज दिन में उमस भरी गर्मी रहेगी। शाम से 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से झोंकेदार हवा चल सकती है और रात में कई इलाकों में वर्षा होगी। मौसम के अनुसार 30 जून को दिल्ली में मानसून पहुंचेगा। इस वजह से बृहस्पतिवार को मौसम विभाग ने आरेंज अलर्ट जारी किया है। क्योंकि कई इलाकों में उस दिन तेज वर्षा हो सकती है। मौसम विभाग के विशेषज्ञ आरके जेनामणि ने कहा कि 30 जून व एक जुलाई को अच्छी बारिश होने की संभावना है। इससे गर्मी से राहत मिलेगी। इन राज्यों में आज बारिश के आसार मौसम विभाग ने देश के कई राज्यों में आज और आने वाले दिनों के लिए भारी बारिश के आसार जताए हैं। हिमाचल प्रदेश में आज और कल, उत्तराखंड में आज और कल (29, 30 जून) भारी बारिश के संकेत हैं। पश्चिमी यूपी में 30 जून, पूर्वी यूपी में 29 और 30 जून, पूर्वी राजस्थान में 30 जून व एक जुलाई को बारिश की संभावना है। इसके अलावा, मध्य प्रदेश में आज, छत्तीसगढ़ में आज और कल बारिश की संभावना है। वहीं, ओडिशा, झारखंड, केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान में भी बारिश हो सकती है।
Main Slider राष्ट्रीय

भारत में कोरोना के मामलों में दिन बाद फिर से हुआ इजाफा, 24 घंटे में 14506 नए केस आए सामने….

भारत में एक दिन बाद कोरोना के मामलों (Covid-19 Cases) में फिर इजाफा देखने को मिला है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि बीते 24 घंटे में देश में कोरोना संक्रमण के 14,506 मामले सामने आए हैं। वहीं, इस दौरान महामारी से 30 लोगों की मौत भी हुई है। बता दें कि एक दिन पहले ही कोरोना के 11,793 केस दर्ज किए गए थे।
एक लाख के करीब हुए एक्टिव केस मंत्रालय ने बताया कि एक्टिव केस बढ़कर 99,602 हो गए हैं। गुरुवार को ये आंकड़ा एक लाख के पार होने की उम्मीद है। देश में कल एक्टिव मरीजों की संख्या 96,700 थी। डेली पाजिटिविटी दर 3.35% हो गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक कुल 4 करोड़ 34 लाख 33 हजार 345 मामले सामने आ चुके हैं। कोरोना से कुल 4 करोड़ 28 लाख 8 हजार 666 लोग ठीक हो चुके हैं। साथ ही 5 लाख 25 हजार 77 लोगों की मौत भी हो चुकी है। 197.35 करोड़ के पार हुए वैक्सीनेशन का आंकड़ा इसके साथ ही देश में कोरोना वैक्सीन की 197.35 करोड़ से ज्यादा खुराक लगाई जा चुकी है। 101.62 करोड़ से ज्यादा लोगों को पहली डोज दी जा चुकी है जबकि 91.35 करोड़ से ज्यादा दूसरी खुराक लगाई जा चुकी है। इसके अलावा सवा चार करोड़ से ज्यादा लोगों को प्रीकाशन डोज भी दी जा चुकी है।
उत्तराखंड

हरिद्वार हाईवे पर एक अज्ञात वाहन की चपेट में आने से आइआइटी कर्मचारी की मौत… 

हरिद्वार हाईवे पर मलकपुर चुंगी के पास एक अज्ञात वाहन की चपेट में आकर आइआइटी कर्मचारी की मौत हो गयी। पुलिस ने शव को कब्जे में लिया है। पुलिस चालक की तलाश कर रही है। सीसीटीवी कैमरे खंगाले जा रहे हैं।
एक तेज रफ्तार वाहन ने टक्कर मार दी सिविल लाइंस कोतवाली पुलिस के मुताबिक मनोज कुमार (45) निवासी राजपुताना कोतवाली गंगनहर आइआइटी कर्मचारी थे। वह बायोटेक डिपार्टमेंट में कार्यरत थे। सोमवार की देर रात वह किसी काम से मलकपुर चुंगी के पास आये थे। इसी दौरान एक तेज रफ्तार वाहन ने उसे टक्कर मार दी। टक्कर लगने से वह बुरी तरह से घायल हो गये। हादसे के बाद आरोपित चालक वहां से फरार हो गया। हादसा होते देख आसपास के लोग मौके पर पहुंचे। हादसे के बाद घायल को आननफानन में उपचार के लिए सिविल अस्पताल ले जाया गया। जहां पर चिकित्सक ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव कब्जे में लिया है। अभी तक पुलिस को इस मामले में तहरीर नहीं मिली है। पुलिस मौके पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाल रही है। प्रभारी निरीक्षक देवेंद्र चौहान ने बताया कि आरोपित चालक की तलाश की जा रही है। पछवादून में यातायात में बाधक बन रही ई-रिक्शा जागरण संवाददाता, विकासनगर: पछवादून में देहरादून-पांवटा और दिल्ली-यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर ई-रिक्शा की भरमार हो गई है, जिसके चलते यातायात बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। विकासनगर, हरबर्टपुर, सहसपुर, सेलाकुई के बाजारों में ई-रिक्शा की संख्या काफी बढ़ गई है। हालत यह है कि सवारी ई-रिक्शा में नियम विरुद्ध सामान भी ढोया जा रहा है। समस्या की तरफ एआरटीओ का कोई ध्यान नहीं है। एआरटीओ कार्यालय विकासनगर में आठ सौ ई-रिक्शा पंजीकृत हैं। सवारियों के लिए ई-रिक्शा पैसेंजर और सामान ढोने के लिए ई-रिक्शा कार्ट की श्रेणी बनाई गई है। विकासनगर से झाझरा तक पंजीकृत ई-रिक्शा का संचालन अधिक हो रहा है। मुख्य रूप से राष्ट्रीय राजमार्गों पर ई-रिक्शा के कारण यातायात प्रभावित होना शुरू हो गया है। वैसे तो ई-रिक्शा चार सवारी और एक चालक के लिए पास है, लेकिन पीछे चार सवारियों की बजाय पांच से छह सवारियां तक बैठाई जा रही हैं। पछवादून में ई-रिक्शा कार्ट कम संख्या में है, नियम विरुद्ध सवारी ई-रिक्शा में ही प्लाईबोर्ड, सीमेंट और अन्य सामान ढोया जा रहा है। उधर, एआरटीओ विकासनगर आरएस कटारिया का कहना है कि ई-रिक्शा के लिए कोई रूट निर्धारित नहीं है, राष्ट्रीय राजमार्ग पर चलने पर भी प्रतिबंध नहीं है, क्योंकि प्रधानमंत्री की ई-व्हीकल योजना के तहत इसको बढ़ावा दिया जा रहा है। यदि ई-रिक्शा पैसेंजर में कोई सामान ढोता है तो उसके खिलाफ चालान की कार्रवाई की जाती है, क्योंकि सामान ढोने के लिए ई-रिक्शा कार्ट बनाई गई है।
उत्तराखंड

हरिद्वार में एक 80 साल की दादी ने पुल से गंगा में छलांग लगा कर सबको किया हैरान….

गर्मियों में नदी व नहर किनारे अठखेलियां करते युवाओं को आपने जरूर देखा होगा। लेकिन हरिद्वार में एक 80 साल की दादी ने पुल से गंगा में छलांग लगा कर सबको चौंका दिया। गंगा में कूदने के बाद वृद्धा बिल्कुल युवाओं की तरह तैर कर काफी दूर निकल गई।

हरियाणा की बताई जा रही वृद्धा

वृद्धा का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। वृद्धा हरियाणा की बताई जा रही है। हालांकि, पुलिस को इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। गर्मियों के सीजन में हरिद्वार के गंगा घाटों पर काफी भीड़ उमड़ी हुई है। चार धाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं के अलावा गर्मी की छुट्टी मनाने के लिए पर्यटक कई राज्यों से हरिद्वार पहुंच रहे हैं।

वीडियो देखें:-

पुल से छलांग लगाती वृद्धा का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हर की पौड़ी समेत अन्य गंगा घाटों पर बड़ी संख्या में युवा पुल से छलांग लगाते नजर आ जाते हैं। पुलिस ऐसे युवाओं परमिशन मर्यादा के तहत कार्रवाई भी कर रही है। इस बीच हर की पौड़ी ब्रह्मकुंड पर पुल से छलांग लगाती एक वृद्धा का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है। वृद्धा की उम्र लगभग 80 वर्ष बताई जा रही है। इस वीडियो में वृद्धा पुल पर चढ़कर नीचे गंगा में छलांग लगाती है और युवाओं की तरह तैरकर काफी दूर जाने के बाद बाहर निकल आती है।

 

वीडियो की भी जांच कराई जा रही है : पुलिस इंटरनेट मीडिया पर लोग कई तरह की प्रतिक्रिया जता रहे हैं। कुछ लोग वृद्धा के इस हैरतअंगेज कारनामे पर उनकी सराहना कर रहे हैं और उनकी फिटनेस की दाद दे रहे हैं, जबकि कुछ जिंदगी से खिलवाड़ बता रहे हैं। वहीं एसपी सिटी स्वतंत्र कुमार ने बताया कि एक वीडियो सामने आया है, जिसमें एक वृद्धा पुल से गंगा में छलांग लगाती नजर आ रही है। पुलिस छलांग लगाने वालों पर अभियान चलाकर कार्रवाई करती है, इस वीडियो की भी जांच कराई जा रही है।  

Main Slider राष्ट्रीय

CM अशोक गहलोत के हालिया बयान को लेकर सचिन पायलट ने कहा-‘मुझे वो पहले भी कह चुके हैं ‘‘नकारा, निकम्मा जैसी बातें…’

Sachin Pilot Ashok Gehlot: राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने 2020 में ‘सरकार गिराने के षड्यंत्र’ के बारे में मुख्यमयंत्री अशोक गहलोत के हालिया बयान को लेकर उन पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर राहुल गांधी ने उनके धैर्य की प्रशंसा की है तो किसी को अनावश्यक रूप से परेशान नहीं होना चाहिए. इसके साथ ही पायलट ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत पितातुल्य हैं और वह उनकी किसी बात को अन्यथा नहीं लेते हैं, भले ही उन्होंने, अतीत में उन्हें ‘‘नकारा, निकम्मा जैसी बातें कही हों.’’ केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि शेखावत केंद्रीय  मंत्री बने क्योंकि राज्य में कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद 2019 के लोकसभा चुनाव में वह जोधपुर से जीत गए. पायलट के अनुसार कांग्रेस पार्टी के सत्ता में होने के बावजूद जोधपुर सीट पर चुनाव हारना एक ‘चूक’ थी. गौरतलब है कि जोधपुर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गृहनगर है और 2019 के लोकसभा चुनाव में यहां से उनके बेटे वैभव गहलोत ने शेखावत के खिलाफ चुनाव लड़ा और हार गए. पायलट ने टोंक में संवाददाताओं से कहा कि हाल ही में दिल्ली में कांग्रेस के एक कार्यक्रम में राहुल गांधी ने धैर्य की बात करते हुए मेरा (पायलट) नाम लिया था. उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली के कार्यक्रम में, हमारे पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंच से मेरे धैर्य की प्रशंसा कर दी… अब अगर मेरे धैर्य की राहुल गांधी जैसे नेता प्रशंसा करते हैं या उसको पसंद करते हैं तो मुझको लगता है कि किसी को भी उनके बयान से अनावश्यक रूप से परेशान नहीं होना चाहिए और इसको सही भावना में लेना चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘अब अगर मेरे धैर्य की प्रशंसा राहुल गांधी जैसे नेता करते हैं या उसको पसंद करते हैं तो मुझको लगता है कि अब आगे कुछ रहा नहीं बोलने के लिए.’’ ‘अशोक गहलोत जी अनुभवी, बुजुर्ग और पिता तुल्य हैं’ मुख्यमंत्री गहलोत के हालिया बयान के बारे में पायलट ने कहा, ‘‘आज से पहले भी मुख्यमंत्री जी ने मेरे बारे में कुछ कह दिया था.. मुझे कुछ नाकारा, निकम्मा ऐसी बहुत सारी बातें बोल दी थीं.. लेकिन अशोक गहलोत जी अनुभवी हैं, बुजुर्ग हैं और पिता तुल्य हैं तो वो कभी कुछ बोल देते हैं तो मैं उसे अन्यथा नहीं लेता.’’ बता दें कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को कहा था कि ‘‘ गजेन्द्र सिंह शेखावत ने अपने बयान से साबित कर दिया है कि वे 2020 में उनकी सरकार गिराने (के प्रयास) में मुख्य किरदार थे और सचिन पायलट के साथ मिले हुए थे.’’ शेखावत ने हाल ही में चौमूं में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि 2020 में पायलट से चूक हो गई. उन्होंने कहा, ‘‘अगर वे पायलट मध्य प्रदेश (के विधायकों) जैसा फैसला लेते तो राजस्थान के 13 जिलों के लोग प्यासे नहीं होते. पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना (ईआरसीपी) पर काम चालू हो चुका होता. उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार राज्य के 13 जिलों में पेयजल के लिए महत्वपूर्ण ईआरसीपी को केंद्रीय परियोजना का दर्जा देने की मांग कर रही है. बता दें कि दिसंबर 2018 में कांग्रेस पार्टी की जीत के तुरंत बाद से मुख्यमंत्री बनने के लिए अशोक गहलोत और सचिन पायलट आमने सामने थे. पार्टी ने अशोक गहलोत को तीसरी बार राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाया और पायलट को उपमुख्यमंत्री का पद दिया. जुलाई 2020 में पायलट ने 18 अन्य असंतुष्ट कांग्रेस विधायकों के साथ गहलोत के खिलाफ बगावती तेवर अपना लिए तो गहलोत सरकार के लिए संकट पैदा हो गया था. पायलट को उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष पद से बर्खास्त कर दिया गया था. पार्टी आलाकमान के दखल के बाद महीने भर तक चला राजनीतिक संकट खत्म हुआ था.