उत्तराखंड प्रदेश

उत्तराखंड में भारी बारिश का कहर, हरिद्वार में तो लोग…

बारिश के कहर के लिहाज से उत्तराखंड के लिए तीन दिन भारी गुज़र सकते हैं. मौसम विभाग की चेतावनी है कि टिहरी, उत्तरकाशी, चंपावत और बागेश्वर जैसे पहाड़ी ज़िलों तेज़ बारिश के चलते लोगों को खास तौर से एहतियात रखना चाहिए. आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह ने यह अलर्ट जारी करते हुए बताया कि 1 अगस्त के बाद मौसम में बदलाव दिख सकता है. इधर, पहाड़ों में नेशनल हाईवे बुरी तरह ठप दिख रहे हैं, तो मैदानों में शहर के अंदर की सड़कों की पोल ज़रा सी बारिश ने खोलकर रख दी है. हरिद्वार में तो लोग सड़कों पर तैरते हुए नज़र आए.

उत्तराखंड में बारिश ने पिछले कुछ घंटों में क्या गुल खिलाए हैं, इसकी कुछ तस्वीरें आपको दिखाते हैं. वीडिो में आप देख सकते हैं कि कैसे हरिद्वार में शुक्रवार की रात हुई कुछ देर की जोरदार बारिश से सड़कें स्विमिंग पूल में तब्दील हो गईं. व्यस्ततम चौराहे रानीपुर मोड़ और भगत सिंह चौक पर रेलवे ब्रिज में नीचे लोगों की कमर और छाती तक पानी भर गया. गाड़ियों के लिए मुश्किल खड़ी हो गई तो कुछ बच्चे और नौजवान जल भराव में तैरते हुए भी दिखे.

अब ये तस्वीर देखिए. बागेश्वर ज़िले के गरुड़ क्षेत्र में देर रात एक कार गदेरे में बह गई. कार में दो लोग सवार थे. ग्रामीणों ने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी और देर रात तक रेस्क्यू चला. कई घंटों की मशक्कत के बाद आखिरकार दोनों युवकों को सुरक्षित बचा लिया गया. इनमें से एक को गंभीर चोटें आईं इसलिए उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया.

Main Slider उत्तराखंड प्रदेश

उत्तराखंड के हरिद्वार में नकली दवाइयों के कारोबारियों पर बड़ी कार्रवाई, करोड़ों रुपये का माल जब्त

उत्तराखंड के हरिद्वार में नकली दवाइयों के कारोबारियों पर बड़ी कार्रवाई की गई है. एसटीएफ (STF) और नारकोटिक्स विभाग ने संयुक्त रूप से इस बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है. दरअसल, लम्बे समय से एसटीएफ को सूचना मिल रही थी कि हरिद्वार के भगवानपुर क्षेत्र में एक दवाई फैक्ट्री है जिसमें नकली दवाइयों का कारोबार चल रहा है, सूचना की पुष्टि होने पर एसटीएफ ने वहां रेड मारी.

बिना लाइसेंस चल रही थी दवा कंपनी 
बताया गया जिस जगह STF ने छापा मारा है वहां स्थित दवाइयों की कंपनी में कोरोना के दौरान जरूरी रेमडेसिविर को बड़े पैमाने पर तैयार किया जा रहा था. STF और नारकोटिक्स विभाग की संयुक्त टीम ने रेड मारने के बाद कंपनी के लाइसेंस और अन्य डाक्यूमेंट चेक करने के लिए मांगे तो पता चला कि कंपनी के पास दवाइयां बनाने के किसी भी प्रकार के डाक्यूमेंट नहीं है. जिसके बाद रेड मारने वाली टीम ने दवा कंपनी और लाखों रूपये की रेमेडीसीविर को सीज किया.

कम्पनी को सीज किया
STF ने कार्रवाई के बाद जहां कंपनी को सीज कर दिया वहीं दवाइयों के सैंपल लेकर जांच के लिए लेबोरेटरी में भेजा है, जाचं रिपोर्ट आते ही आगे की कार्रवाई की जाएगी. आपको बता दें कि इससे पहले एसटीएफ द्वारा हरिद्वार और देहरादून में प्रतिबंधित दवाइयों को बनाने और फर्जी दवाई कंपनियों के खिलाफ जम कर कार्रवाई की जा चुकी है, जिसमें 3 कंपनियों के साथ करोड़ों रुपये की दवाइयों को सीज किया गया था

एसटीएफ ने यह कहा
हरिद्वार में एसटीएफ और नारकोटिक्स विभाग की संयुक्त छापेमारी को लेकर एसएसपी STF अजय सिंह का कहना है कि लोगों की जान से खिलवाड़ करने वाली ऐसी कंपनियों पर एसटीएफ ने लंबे समय से ऑपरेशन चलाया हुआ है, जिसके तहत भगवानपुर क्षेत्र की एक और कंपनी पर एसटीएफ ने बड़ी कार्रवाई की है. फिलहाल दवा कंपनी को सीज किया गया है और लेबोरेटरी से जैसे ही जांच रिपोर्ट आएगी उसके आधार पर आगे की विधिक कार्रवाई की जायेगी.

Main Slider राष्ट्रीय

केंद्र सरकार ने मंकीपॉक्स के मामलों की निगरानी के लिए किया टास्क फोर्स का गठन

देश में मंकीपॉक्स के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. ऐसे में केंद्र सरकार ने रविवार को मंकीपॉक्स के मामलों की निगरानी के लिए टास्क फोर्स (Monkeypox Taskforce) का गठन किया है. टीम का नेतृत्व नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉक्टर वीके पॉल करेंगे. इसके अन्य सदस्यों में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, फार्मा और बायोटेक के सचिव शामिल होंगे. सूत्र ने समाचार एजेंसी एएनआई को इसकी जानकारी दी है. बता दें कि भारत में मंकीपॉक्स धीरे धीरे अपना पैर पसार रहा है. पिछले दिनों आंध्र प्रदेश के गुंटूर में आठ साल के बच्चे में इस खतरनाक बीमारी के लक्षण पाए गए थे. इसके बाद उसके सैंपल को जांच के लिए भेज दिया गया.

मंकीपॉक्स को लेकर भारत सरकार बिल्कुल अलर्ट मोड में है. इस बीमारी को लेकर एयरपोर्ट, बंदरगाह सभी जगह निगरानी तेज कर दी गई है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पिछले दिनों मंकीपॉक्स का एक मामला सामने आया था. इसके बाद उसे LNJP अस्पताल में भर्ती कराया गया था. केरल और दिल्ली में कुल मिलाकर भारत में मंकीपॉक्स के अब तक पांच मामले सामने आ चुके हैं

केरल में 22 साल के व्यक्ति की मौत
बता दें कि केरल में त्रिशूर के एक निजी अस्पताल में 22 वर्षीय व्यक्ति की कथित तौर पर मंकीपॉक्स के कारण मौत हो गई थी. केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने रविवार को कहा कि 22 वर्षीय युवक की मौत के कारणों की जांच करेंगे, जो हाल में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से लौटा था. एक दिन पहले कथित रूप से मंकीपॉक्स के कारण उसकी मृत्यु हो गई थी. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि उसके नमूनों की रिपोर्ट अब तक आई नहीं है. उन्होंने कहा कि मरीज युवा था और उसे कोई और बीमारी या स्वास्थ्य संबंधी कोई अन्य दिक्कत नहीं थी. हालांकि, स्वास्थ्य विभाग उसकी मौत के कारणों का पता लगा रहा है.

देश में मंकीपॉक्स से संक्रमित पहला मरीज हुआ ठीक
गौरतलब है कि भारत में केरल से 13 जुलाई को मंकीपॉक्स का पहला संक्रमित मिला था. केरल के कोल्लम शहर के रहने वाले 35 वर्षीय मरीज ने यूएई से लौटने के बाद 14 जुलाई को मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया था. इसके तुरंत बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया. जॉर्ज ने कहा कि मरीज के सभी नमूनों की दो बार जांच हुई. दोनों नमूनों की रिपोर्ट नेगिटिव आई है. वहीं, मरीज भी शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ है. त्वचा के धब्बे पूरी तरह से ठीक हो गए हैं. उसे आज छुट्टी दे दी जाएगी.

Main Slider बड़ी खबर राष्ट्रीय

8 अगस्त को ओडिशा दौरे पर अमित शाह, जानें महत्व…

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आठ अगस्त को ओडिशा का दौरा करेंगे और प्रख्यात स्वतंत्रता संग्रामी एवं पूर्व मुख्यमंत्री हरेकृष्ण महताब द्वारा स्थापित ओड़िया समाचार पत्र ‘प्रजातंत्र’ के 75 साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होंगे. केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, ‘‘प्रजातंत्र की 75वीं वर्षगांठ उसी साल हो रही है, जब देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं. इसी साल ओडिशा की बेटी देश की राष्ट्रपति बनीं. ऐसे समय में शाह का ओडिशा दौरा महत्व रखता है.’’

धर्मेंद्र प्रधान ने रविवार को कटक में एक बैठक की अध्यक्षता की, जो अमित शाह के दौरे से पहले की जा रही तैयारियों की समीक्षा के लिए आयोजित की गई. उन्होंने इनडोर स्टेडियम का भी दौरा किया, जहां कार्यक्रम का आयोजन होना है.

बीजू जनता दल (बीजद) नेतृत्व के साथ मतभेदों के कारण पार्टी द्वारा अलग-थलग किए गए लोकसभा सदस्य भर्तृहरि महताब समाचार पत्र के मौजूदा संपादक हैं. राज्य के दो दिवसीय दौरे पर आए प्रधान ने महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस को कटक में उनके जन्मस्थल जानकीनाथ भवन में श्रद्धांजलि दी.

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, ‘‘नेता जी के जन्मस्थल जानकीनाथ भवन, जिसे अब संग्रहालय में बदल दिया गया है, वह किसी तीर्थस्थल से कम नहीं है. यह मेरा सौभाग्य है कि मैं भारत के महान सपूत, राष्ट्र के नायक और साहस एवं बलिदान के प्रतीक को श्रद्धांजलि देने के लिए आज फिर इस पवित्र स्थल पर गया.

Main Slider राष्ट्रीय

शिवसेना को लगा संजय राउत की गिरफ्तारी से बड़ा झटका

पात्रा चॉल घोटाले के मामले में ईडी ने रविवार को संजय राउत को गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद से ही महाराष्ट्र की राजनीति में उबाल देखने को मिल रहा है। एक तरफ ईडी संजय राउत का मेडिकल कराने के बाद उन्हें कोर्ट में पेश करने जा रही है तो वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे उनके घर पर जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि उद्धव ठाकरे संजय राउत के परिजनों से मुलाकात करेंगे। वहीं महाराष्ट्र के सीएम और शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे ने संजय राउत पर तंज कसते हुए कहा है कि अब रोज सुबह 8 बजे बजने वाला भोंपू बंद हो गया है। इससे पहले भी उन्होंने कहा था कि जो जैसा करेगा, वैसा ही भरेगा।

उद्धव ठाकरे जिस तरह से संजय राउत की गिरफ्तारी के बाद से सक्रिय हैं, उससे साफ है कि शिवसेना के लिए यह मसला कितना गंभीर है। दरअसल संजय राउत को उद्धव ठाकरे के बेहद करीबी नेताओं में शुमार किया जाता है। 2019 के विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा संग सरकार बनाने को लेकर मतभेदों की बात हो या फिर एकनाथ शिंदे गुट की बगावत के दौरान वह चर्चा में रहे थे। उनकी ओर से लगातार बयान आ रहे थे और उनकी आवाज को उद्धव ठाकरे की बात के तौर पर देखा जाता था। एकनाथ शिंदे गुट भी उद्धव ठाकरे की बजाय उन पर ही सीधे हमले करता रहा है और उद्धव ठाकरे को भ्रमित करने के भी आरोप लगाता रहा है।

उद्धव ठाकरे के कितने करीब हैं संजय राउत

इससे समझा जा सकता है कि संजय राउत का उद्धव ठाकरे की शिवसेना में क्या कद है। हाल ही में संजय राउत ने ‘सामना’ के लिए उद्धव ठाकरे का एक इंटरव्यू भी लिया था, जिसमें शिवसेना प्रमुख ने एकनाथ शिंदे पर तीखा हमला बोलते हुए कहा था कि वह जन्म देने वाली मां को ही खाने वाले हैं। उद्धव ठाकरे अपने पिता बालासाहेब ठाकरे की तरह बेबाक और आक्रामक बयान नहीं देते हैं, लेकिन संजय राउत एक कट्टर और तेजतर्रार शिवसैनिक के कैरेक्टर में हमेशा नजर आए हैं। यही वजह है कि उद्धव ठाकरे खेमे के वह सबसे चर्चित चेहरे रहे हैं। संजय राउत शिवसेना के मुखपत्र सामना के संपादक भी हैं। इसीलिए उन्हें शिवसेना की आधिकारिक आवाज भी माना जाता रहा है।

एकनाथ शिंदे की बगावत में बने उद्धव कैंप की आवाज

हाल ही में एकनाथ शिंदे गुट की बगावत के दौरान हर दिन वह मीडिया से रूबरू होकर या फिर ट्विटर के जरिए उन पर हमला बोलते थे। पार्टी में दोफाड़ होने की स्थिति में भी संजय राउत ही अकेले ऐसे बड़े नेता हैं, जो उद्धव और आदित्य ठाकरे के बाद नजर आते हैं। ऐसे में ईडी की ओर से उनकी गिरफ्तारी किया जाना उद्धव ठाकरे के एकदम करीब जाकर हमला करने जैसा है। ऐसे में देखना होगा कि बगावत से लेकर सरकार गंवाने तक का संकट झेल रही शिवसेना अब कैसे जवाब देती है। संजय राउत ने झुकूंगा नहीं कहकर अपने इरादे पहले ही जाहिर कर दिए हैं।

आदित्य बोले- ठाकरे फैमिली को कोई खत्म नहीं कर सकता

इस बीच संजय राउत की गिरफ्तारी पर बोलते हुए आदित्य ठाकरे ने कहा कि कोई भी ठाकरे फैमिली को खत्म नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि संजय राउत की गिरफ्तारी हमारी आवाज को दबाने की एक कोशिश है। अब बहुत हो चुका है। यह सही नहीं है। बता दें कि ईडी ने लंबी पूछताछ के बाद रविवार को देर रात संजय राउत को अरेस्ट कर लिया था। उनके घर से 11.50 लाख रुपये की नकदी बरमद की गई थी।

Main Slider राष्ट्रीय

केरल में सामने आए स्वाइन फ्लू के मामले, 15 सूअरों की मौत

केरल के वायनाड जिले और पड़ोसी जिले कन्नूर में पहली बार अफ्रीकी स्वाइन फ्लू के मामले सामने आए हैं। वायनाड में जुलाई के अंतिम सप्ताह में पहला मामला सामने आया था, जिसके बाद दो फार्मों में 300 से अधिक सूअरों को मार दिया गया था।

वायनाड में 15 सुअरों की मौत

सोमवार सुबह वायनाड में ताजा मामले सामने आए, जहां अचानक 15 सूअरों की मौत हो गई। परीक्षणों में अफ्रीकी स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई

कन्नूर में 200 सूअरों को मारा जाएगा

कन्नूर के सुअर फार्म में अधिक मामले सामने आने के साथ, लगभग 200 सूअरों को मार दिया जाएगा। अधिकारियों ने पीड़ित किसानों को पर्याप्त मुआवजे का वादा किया है।

वायनाड में सूअरों में मिला था स्वाइन फ्लू

बता दें, वायनाड के मनंतवाडी क्षेत्र के दो फार्मों में सूअरों में स्वाइन फ्लू के लक्षण मिले थे। उनकी रिपोर्ट पाजिटिव आई थी, जिसके चलते एक फार्म के सभी जानवरों की मौत हो गई थी। वहीं, केरल की पशुपालन मंत्री जे. चिंजू रानी ने भी सभी सीमा चौकियों पर कड़ी जांच के निर्देश जारी किए।

सूअरों को ले जाने वाले वाहनों के प्रवेश पर लगी रोक

स्वास्थ्य मंत्री ने राज्य में सूअर, सूअर का मांस, सुअर के मांस उत्पादों और सुअर के मलमूत्र को ले जाने वाले वाहनों के प्रवेश को रोकने के लिए निर्देश जारी किए। इसके अलावा, उन्होंने वन विभाग को यह भी सुझाव दिया कि यदि कोई जंगली सूअर असामान्य परिस्थितियों में मरता है तो उन्हें सूचित किया जाए।

सूअरों की तस्करी करने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई

पशु कल्याण विभाग के डाक्टरों के मार्गदर्शन में केरल में सभी फार्मों का निरीक्षण किया जा रहा है। नियमों का उल्लंघन करके सूअरों की तस्करी करने की कोशिश करने वालों के खिलाफ कड़ी सजा दी जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री ने आगे बताया कि सभी खेत मालिकों को पशु कल्याण विभाग द्वारा सुझाए गए जैव सुरक्षा प्रणाली को मजबूत करने का ध्यान रखना चाहिए, यदि वर्तमान में निवारक टीका उपलब्ध नहीं है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण कौन-कौन से हैं?

स्वाइन फ्लू आमतौर पर इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण होता है। यह वायरस सूअरों में पाया जाता है। स्वाइन फ्लू के लक्षणों में बुखार, गले में खराश, नाक बहना और नाक बंद होना शामिल है। स्वाइन फ्लू के कारण श्वसन प्रणाली प्रभावित होती है।

Main Slider Uncategorized राष्ट्रीय

पिछले 24 घंटे में देश में आए कोरोना के 16 हजार 464 नए मामले

देश में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी देखने को मिल रही है. सोमवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 16 हजार 464 नए मामले दर्ज किए गए हैं. ऐसे में कोविड-19 के एक्टिव केस बढ़कर 1.44 लाख के पास पहुंच गए हैं. देश में कोविड के अब तक 4 करोड़ 40 लाख 36 हजार 275 केस हो गए हैं.

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मौजूदा समय में एक्टिव केस 1 लाख 43 हजार 989 हो गए हैं. साथ ही देश में अब तक कोरोना संक्रमण से कुल 4 करोड़ 33 लाख 65 हजार 890 लोग ठीक हो चुके हैं. भारत में कोरोना संक्रमण से अब तक कुल 5 लाख 26 हजार 396 लोगों की मौत भी हुई है. वहीं, देश में टीकाकरण की रफ्तार भी बेहद तेज है. अब तक कोरोना वैक्सीन की कुल 2,04,34,03,676 डोज लगाई जा चुकी हैं.

3 राज्यों में पॉजिटिविटी रेट 15% के पार देश के 3 राज्यों में पॉजिटिविटी रेट 15% से ज्यादा है. इनमें मेघालय, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश शामिल हैं. मेघालय में सबसे अधिक 27.98% पॉजिटिविटी रेट दर्ज किया गया है. जबकि उत्तराखंड में पॉजिटिविटी रेट 16.44% और हिमाचल में 15.35% रिकॉर्ड किया गया. पंजाब में 24 घंटे में 467 मरीज, 3 हजार से ज्यादा एक्टिव केस पंजाब राज्य में पिछले चौबीस घंटे में 467 मरीज मिले हैं. जिसके बाद एक्टिव केस 3,121 हो चुके हैं. सबसे ज्यादा 75 मरीज जालंधर, मोहाली में 63, लुधियाना में 46, पटियाला में 37 मरीज मिले हैं. पंजाब का पॉजीटिविटी रेट 4.68% पहुंच चुका है. रविवार को 10,591 सैंपल लिए गए जबकि 9974 की कोविड टेस्टिंग की गई.

हिमाचल प्रदेश में 5,000 से अधिक एक्टिव केस देश में पॉजिटिविटी रेट के मामले में तीसरे नंबर (15.35%) पर चल रहे हिमाचल प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 5574 हो गई है. IGMC, शिमला के मेडिकल सुपरिनटैंडैंट डॉ जनक राज ने बताया कि हमारे अस्पताल में भी प्रतिदिन 3-4 कोविड मामले आ रहे हैं. लोग दूसरी बीमारियों के इलाज के लिए अस्पताल आ रहे हैं, लेकिन टेस्टिंग में वे पॉजिटिव पाए जा रहे हैं.

राज्य में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सभी शैक्षणिक संस्थानों और कार्यालयों में मास्क पहनना अनिवार्य किया जा चुका है. स्वास्थ्य विभाग ने इस संबंध में शुक्रवार को आदेश जारी किए थे. यहां बीते दिन 873 नए केस मिले थे और 2 मरीज की मौत हुई थी.