राष्ट्रीय

इस वजह से कांग्रेस नेता जयवीर शेरगिल ने अपने पद से दिया इस्तीफा

कांग्रेस नेता जयवीर शेरगिल ने बुधवार को राष्ट्रीय प्रवक्ता पद से इस्तीफा दे दिया। जयवीर शेरगिल भारत के सर्वोच्च न्यायालय में पेशे से वकील हैं। सोनिया गांधी को लिखे अपने इस्तीफे में शेरगिल ने कहा है कि पार्टी में ‘स्वार्थी हितों से प्रभावित’ होकर फैसले लिए जा रहे हैं। उन्होंने लिखा, “मुझे यह कहते हुए दुख हो रहा है कि अब फैसले जनता और देश के हितों में नहीं लिए जाते हैं, बल्कि यह उन लोगों के स्वार्थी हितों से प्रभावित हैं जो चाटुकारिता में लिप्त हैं और लगातार जमीनी हकीकत की अनदेखी कर रहे हैं।”

शेरगिल ने कहा, “मैंने कांग्रेस पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफे का प्राथमिक कारण यह है कि कांग्रेस में निर्णय अब जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए नहीं किया जा रहा है। यह विशुद्ध रूप से एक मंडली से प्रभावित हो रहा है जो केवल चाटुकारिता में लिप्त है।”  जयवीर शेरगिल ने कहा, “कांग्रेस पार्टी का निर्णय अब जमीनी हकीकत से मेल नहीं खाता। मैं राहुल गांधी, सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा से एक साल से अधिक समय से समय मांग रहा हूं, लेकिन उनके दफ्तर में हमारा वेलकम नहीं है।”

उन्होंने कहा, “पिछले 8 सालों में मैंने कांग्रेस से कुछ नहीं लिया बल्कि पार्टी में के लिए सबकुछ किया। आज जब मुझे लोगों के सामने झुकने के लिए मजबूर किया जा रहा है क्योंकि वे शीर्ष नेतृत्व के करीब हैं; तो यह मुझे मंजूर नहीं।”