राष्ट्रीय

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के लिए 2000 रुपये नहीं देने पर दी धमकी

केरल के कोल्लम में ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के लिए 2000 रुपये नहीं देने पर एक दुकानदार को धमकी देने का मामला सामने आया है। दुकान के मालिक एस फवाज ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर तौल मशीनों को नुकसान पहुंचाने और सब्जियां फेंकने का भी आरोप लगाया है। उनका कहना है कि वह इस यात्रा के लिए 500 रुपये दे पाने में ही सक्षम थे।
 
एस फवाज ने कहा, ‘कांग्रेस कार्यकर्ताओं का एक गुट दुकान पर आ पहुंचा। उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा के लिए चंदा मांगा। मैंने इसके लिए 500 रुपये दे दिए, लेकिन वे 2000 रुपये की मांग कर रहे थे। मैं इतना पैसा नहीं दे सका तो उन्होंने तौल मशीनों को नुकसान पहुंचाया और सब्जियां फेंक दीं।’

कांग्रेस ने तीन कार्यकर्ताओं को किया सस्पेंड
कांग्रेस ने इस मामले पर तत्काल ऐक्शन लेते हुए पार्टी के तीन कार्यकर्ताओं को सस्पेंड कर दिया है। कांग्रेस की केरल यूनिट के अध्यक्ष के सुधाकरण ने ट्वीट करके यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि वे हमारी विचारधारा का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं और ऐसे बर्ताव को स्वीकार नहीं किया जाएगा। पार्टी स्वेच्छा से छोटे चंदों के जरिए क्राउडफंडिंग कर रही है, यहां दूसरों की तरह कॉर्पोरेट डोनेशन नहीं है।

काजू उद्योग के श्रमिकों से राहुल गांधी की आज बातचीत
कांग्रेस नेताओं ने एक दिन के विश्राम के बाद राज्य में कोल्लम जिले के पोलायाथोदु से भारत जोड़ो यात्रा शुक्रवार को फिर शुरू की। सीनियर नेता जयराम रमेश ने बताया कि राहुल गांधी जिले के नींदाकारा में कुछ देर के लिए ठहरेंगे। उन्होंने ट्वीट किया, ‘एक दिन के आराम के बाद ‘भारत जोड़ो यात्रा’ आज सुबह पौने सात बजे कोल्लम से फिर से शुरू हुई। आज सुबह 13 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी और इसके बाद नींदाकारा में समुद्र तट पर कुछ देर का ठहराव होगा। काजू उद्योग से जुड़े श्रमिकों, काजू उद्यमियों, श्रमिक संघों और आरएसपी और फॉरवर्ड ब्लॉक के नेताओं के साथ दोपहर में बातचीत होगी।’

कन्याकुमारी से 7 सितंबर को आरंभ हुई यात्रा
यह पदयात्रा तमिलनाडु के कन्याकुमारी से 7 सितंबर को आरंभ की गई थी। इस दौरान 12 राज्यों और 2 केंद्रशासित प्रदेशों का दौरा किया जाएगा। भारत जोड़ो यात्रा 10 सितंबर की शाम को केरल पहुंची थी। केरल में 450 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी। इस दौरान 19 दिन में 7 जिलों को कवर किया जाएगा। इसके बाद यह 1 अक्टूबर को कर्नाटक पहुंचेगी।