राष्ट्रीय

हिमाचल में लंपी रोग के नए वेरिएंट ने बढाई चिंता, पढ़े पूरी ख़बर

पशुओं में फैले लंपी रोग को लेकर चिंताएं घटने के बजाय और बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। हिमाचल प्रदेश में लंपी रोग के वेरिएंट में बदलाव नजर आया है। पशुओं में अब टांग और गले में भी सूजन के मामले सामने आए हैं। विशेषज्ञों की मानें तो नया वेरिएंट पशुओं की जान के लिए पहले से भी ज्यादा खतरनाक है। गले में सूजन से पशुओं का दम घुट रहा है। सोलन जिला में गठित फील्ड निरीक्षण टीम ने पाया कि पशुओं ने पहले तो लंपी रोग के कारण बुखार के साथ-साथ त्वचा पर दाने निकल रहे थे। अब नए वेरिएंट के तहत पशुओं के गले और टांगों में सूजन भी हो रही है। इससे दम घुटने के कारण पशुओं में मौत का खतरा पहले से बढ़ गया है। विशेषज्ञों की मानें तो अब तक करीब 10 फ़ीसदी पशुओं में नए वेरिएंट के लक्षण पाए गए हैं। हिमाचल में 90 हजार से अधिक मामले हिमाचल प्रदेश में लंपी रोग के मामलों की बात करें, तो अब कुल संक्रमित पशुओं की संख्या बढ़कर 90,934 पहुंच गई है। पशुपालन विभाग के आंकड़ों के अनुसार अब तक 5,376 पशुओं ने इस बीमारी के कारण जान गंवा दी है। वहीं, 48,009 पशु इस रोग को मात देकर स्वस्थ भी हुए हैं। पशुपालन विभाग के अनुसार शनिवार को लंपी रोग के कारण 177 पशुओं की मौत हुई है।