करियर राष्ट्रीय

आज जारी किया जाएगा UPTET का रिजल्ट, ऐसे करें चेक

UPTET का रिजल्ट आज (शुक्रवार को) जारी किया जाएगा. आप UPTET की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर रिजल्ट देख सकते हैं. UPTET का रिजल्ट चेक करने के लिए आपको अपने रोल नंबर की जरूरत होगी.

यहां से डाउनलोड कर सकते हैं UPTET का रिजल्ट

बता दें कि UPTET की परीक्षा दे चुके कैंडिडेट आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर अपने रोल नंबर से लॉगिन करके रिजल्ट डाउनलोड कर सकते हैं. जान लें कि UPTET की परीक्षा उत्तर प्रदेश में हर साल आयोजित की जाती है. UPTET का एग्जाम पास करने वाले कैंडिडेट उत्तर प्रदेश के स्कूलों में प्राथमिक यानी क्लास 1 से 5 तक और उच्च प्राथमिक यानी क्लास 6 से 8 तक के शिक्षकों की भर्ती के लिए पात्र होते हैं.

UPTET का रिजल्ट ऐसे करें डाउनलोड

1- UPTET का रिजल्ट डाउनलोड करने के लिए सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाएं. 2- फिर वेबसाइट पर मौजूद UPTET Result के लिंक पर क्लिक करें. 3- इसके बाद मांगी गई जानकारी को भरें. 4- फिर आपका रिजल्ट स्कीन पर आ जाएगा. 5- इसके बाद आप रिजल्ट को डाउनलोड कर सकते हैं.

कब हुई थी UPTET की परीक्षा?

गौरतलब है कि UPTET की परीक्षा 23 जनवरी, 2022 को आयोजित की गई थी. इसके बाद 27 जनवरी को प्रोविजनल आंसर की (Provisional Answer Key) जारी की गई थी. हालांकि इससे पहले पिछले साल पेपर लीक होने के बाद UPTET की परीक्षा रद्द कर दी गई थी.
करियर राष्ट्रीय

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने NEET PG 2021 Counselling के चलते NEET PG 2022 परीक्षा को स्‍थगित करने का लिया फैसला…

 केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने NEET PG 2021 Counselling के चलते NEET PG 2022 परीक्षा को स्‍थगित करने का फैसला लिया है. मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि इस वर्ष की परीक्षा 6-8 सप्‍ताह के लिए टाल दी गई है. बता दें कि नीट पीजी 2022 परीक्षा 12 मार्च को आयोजित की जानी थी और छात्र लंबे समय से परीक्षा स्‍थगित करने की मांग कर रहे थे.

Students ने दिया था ये तर्क

दरअसल, छात्रों का कहना है कि पिछले वर्ष यानी 2021 की नीट पीजी काउंसलिंग की डेट्स इस वर्ष की परीक्षा की तिथि के साथ क्लैश हो रही है. ऐसे में आगामी परीक्षा को स्‍थगित किया जाना चाहिए. छात्रों ने इसके लिए सोशल मीडिया पर कैंपेन भी चलाया. उन्होंने स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय से लगातार गुहार लगाते हुए कहा था कि इस मामले में जल्‍द से जल्द कोई निर्णय लिया जाए. इतना ही नहीं, छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दायर की जिस पर विचार के लिए कोर्ट ने स्‍वीकृति भी दे दी.

सरकार ने मांगों को माना जायज

स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने अब छात्रों की मांगों को जायज मानते हुए परीक्षा 6-8 सप्‍ताह के लिए स्‍थगित कर दी है. मंत्रालय ने माना है कि परीक्षा की तिथि पिछले सत्र की काउंसलिंग डेट्स से क्लैश हो रही है, जिससे छात्रों को नुकसान हो सकता है. हालांकि, अभी परीक्षा की नहीं तिथि घोषित नहीं की गई है. मंत्रालय का कहना है कि इस बारे में जल्द फैसला लिया जाएगा.
करियर राष्ट्रीय

इस राज्य में आज से कक्षा 1-12 तक के खुलेंगे स्कूल

मुंबई: कोरोना वायरस महामारी के दो साल के भीतर चौथी बार, महाराष्ट्र के सभी स्कूल गणतंत्र दिवस से ठीक दो दिन पहले आज (24 जनवरी को) फिर से खोल दिए गए. इससे पहले दिसंबर 2021 में स्टूडेंट्स के लिए ऑफलाइन क्लास को बंद कर दिया गया था. बोर्ड परीक्षा के स्टूडेंट्स के लिए दसवीं और बारहवीं क्लास को छोड़कर स्कूलों के खुलने पर रोक थी.

फिर से स्कूल खुलने पर स्टूडेंट्स में खुशी की लहर

स्कूल फिर से खुलने पर एक स्टूडेंट ने खुशी जाहिर की. स्टूडेंट ने कहा कि स्कूल वापस आकर अच्छा लग रहा है. हम सभी को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए और मास्क पहनना चाहिए.

कोविड प्रोटोकॉल के साथ खोले गए स्कूल

महाराष्ट्र की स्कूल शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार से पूरे कोविड प्रोटोकॉल और एसओपी के साथ स्कूलों को फिर से खोलने के प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी

स्कूलों की सुरक्षित बहाली के लिए सरकार प्रतिबद्ध- शिक्षा मंत्री

वर्षा गायकवाड़ ने कहा कि उन क्षेत्रों में स्थित स्कूल, जहां कोरोना वायरस के मामले कम हैं, क्लास 1-12 तक के लिए फिजिकल क्लासेस फिर से शुरू की जा रही हैं. हम राज्य में स्कूलों की सुरक्षित बहाली के लिए प्रतिबद्ध हैं. स्कूल फिर से खोलने की योजना के इस चौथे चरण में सभी को अनिवार्य रूप से कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा और माता-पिता की सहमति जरूरी होगी.

स्कूल खुलने पर आदित्य ठाकरे ने क्या कहा?

वहीं मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमने स्कूलों में छात्रों की शारीरिक उपस्थिति अनिवार्य नहीं की है. कुछ जिलों में स्कूल खुल रहे हैं और कुछ में नहीं. अनुमति लेकर माता-पिता अपने बच्चों को स्कूल भेज सकते हैं. हम सभी से कोविड प्रोटोकॉल फॉलो करने की अपील करते हैं.

ये फैसला कई बच्चों की तरफ से सोशल मीडिया पर सीएम ठाकरे और अन्य अधिकारियों से स्कूल जाने की इच्छा के अलावा सरकार, बाल चिकित्सा कार्य बल और शिक्षा विशेषज्ञों के बीच लगातार बातचीत के बाद सीधे अपील जारी करने के बाद लिया गया है.