उत्तराखंड प्रदेश

महात्मा गांधी की 153वीं जयंती पर, पुष्कर सिंह धामी ने श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी

महात्मा गांधी की 153वीं जयंती पर उत्‍तराखंड ने बापू को याद किया और श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री पुष्‍कर सिंह धामी ने कहा कि हमें अपने आचरण में अहिंसा का भाव जागृत करने के साथ ही मानवता के प्रति करुणा का भाव पैदा करना होगा।

महात्मा गांधी की 153वीं जयंती पर उत्‍तराखंड ने बापू को याद किया और श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री आवास में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जन्म जयंती के अवसर पर उनके चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान प्रदेश में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए।

वहीं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गांधी पार्क देहरादून में उनकी मूर्ति पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांधी जी ने सत्य एवं अहिंसा के मार्ग पर चलने के लिए सबको प्रेरित किया। भारत को आजादी दिलाने के लिए उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

राज्य आन्दोलनकारी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें अपने आचरण में अहिंसा का भाव जागृत करने के साथ ही मानवता के प्रति करुणा का भाव पैदा करना होगा। यही हमारी उनके प्रति सच्ची श्रद्वांजलि होगी। इस अवसर पर सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक खजानदास एवं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र भट्ट भी उपस्थित थे।

इसके बाद मुख्यमंत्री धामी ने शहीद स्थल कचहरी में उत्‍तराखंड राज्य आन्दोलनकारी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्‍तराखंड राज्य आन्दोलनकारियों के संघर्ष के परिणाम स्वरूप ही हमें नया राज्य मिला। शहीद राज्य आन्दोलनकारियों के सपने के अनुरूप राज्य के विकास के लिए राज्य सरकार प्रयासरत है।

2025 तक उत्‍तराखंड को हर क्षेत्र में देश का अग्रणी राज्य बनाने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। इसके लिए सभी को एकजुट होकर कार्य करना है, जिससे कि राज्य आन्दोलन के शहीदों के सपनों के अनुरूप प्रदेश का समग्र विकास किया जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार राज्य आन्दोलनकारियों के कल्याण के लिए वचनबद्ध है।

मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने श्रद्धा सुमन अर्पित किए

सचिवालय में अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती के अवसर पर उनके चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर उन्होंने स्वच्छता कर्मियों को भी सम्मानित किया।विधानसभा भवन देहरादून में विधानसभा अध्यक्ष ऋतु भूषण खंडूरी ने दोनों महान विभूतियों के चित्र पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष सहित सभी कार्मिकों द्वारा रामधुन भी गायी गई।

News Street Live
उत्तराखंड प्रदेश

चारधाम यात्रा में टूटा श्रद्धालुओं के दर्शन करने का रिकॉर्ड: CM धामी

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बताया इस साल-2022 में चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं का रिकॉर्ड टूटा है। बदरीनाथ-केदारनाथ सहित चारों धामों में अब तक 38 लाख से ज्यादा तीर्थ यात्री दर्शन कर चुके हैं। चारधाम यात्रा को सुगम बनाने के लिए उत्तराखंड सरकार तत्परता से कार्य कर रही है।

बताया कि संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त पुलिस बल भी तैनात किया गया है, ताकि खराब मौसम में भूस्खलन की वजह से बंद सड़कों को प्राथमिकता से खोला जा सके। सीएम धामी ने कहा कि चारधाम यात्रा करने के लिए पंजीकरण व्यवस्था को अनिवार्य तौर से लागू किया गया है।

सीएम धामी ने कहा चारधाम के कपाट बंद होने से पहले उत्तराखंड यात्रा पर एक नया कीर्तिमान बनाएगा। यात्रा रूट पर श्रद्धालुओं को हर संभव बेहतर सुविधा दी जा रही है। केदारनाथ धामी की तर्ज पर ही बदरीनाथ धाम का भी पुनर्निर्माण किया जा रहा है, जिसके बाद भारी संख्या में तीर्थ यात्री रात्रि प्रवास कर सकेंगे।

इस धाम में पहुंचे सर्वाधिक तीर्थ यात्री 
8 मई से शुरू हुई बदरीनाथ धाम की यात्रा में 1409395 और 6 मई से शुरू केदारनाथ धाम में 1291749 तीर्थ यात्री दर्शन कर चुक हैं। 3 मई से शुरू हुई गंगोत्री धाम में 570011 और यमुनोत्री धाम में 450204 श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं। 29 सितंबर  शाम तक उत्तराखंड चारधाम पहुंचे संपूर्ण तीर्थयात्रियों की संख्या 3721359 तक पहुंच गई थी। हेमकुंड साहिबपहुंचे तीर्थयात्रियों की संख्या कपाट खुलने की तिथि 22 मई से अब अब तक 216715 तक पहुंच गई है। चारधाम यात्रा मार्ग सुचारू हैं। लेकिन कई स्थानों पर आंशिक भूस्खलन जोन में यातायात प्रभावित ‌।

मानूसनी सीजन में चारधाम यात्रा पर लगी थी ब्रेक
केदारनाथ-बदरीनाथ सहित चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में थोड़ी कमी दर्ज की थी। मानसूनी सीजन में  बरसात की वजह से संख्या में कमी दर्ज की थी। बारिश को लेकर अलर्ट पर भी यात्रा पर असर देखने को मिला था, लेकिन मौसम साफ होते ही चारधाम यात्रा ने एक बार फिर तेजी देखने को मिली। ऋषिकेश स्थित पंजीकरण केंद्र में रजिस्ट्रेशन कराने वालों की भारी संख्या देखी जा रही है।

गंगोत्री हाईवे बंदरकोट में छह घंटे बंद रहा
गंगोत्री हाईवे पर सुबह बंदरकोट के समीप भूस्खलन से आवाजाही करीब छह घंटे तक ठप रही। इस कारण यात्रियों को भारी दिक्कतों सामना करना पड़ा। यात्री मार्ग के दोनों ओर जाम में फंसे रहे। गंगोत्री हाईवे पर बंदरकोट के समीप बिना बारिश के भी चट्टान दरकने का सिलसिला रूक नहीं रहा है।

उत्तराखंड प्रदेश

केदारनाथ धाम में हुआ हिमस्खलन, अलर्ट मोड पर जिला प्रशासन

केदारनाथ में कोई आपदा की आहट तो नहीं ?  केदारनाथ धाम में पिछले 10 दिनों में दो बार हिमस्खलन हुआ है। केदारनाथ धाम के पास चोराबारी ग्लेशियर पर आज शनिवार सुबह बर्फ के पहाड़ के भरभराकर गिरने से तीर्थ यात्रियों और स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल देखने को मिला। लेकिन, राहत की बात रही कि धाम और किसी भी तीर्थ यात्री के हताहत होने की सूचना नहीं है। भूस्खलन के बाद जिला प्रशासन अलर्ट मोड पर आ गया है। पुलिस-प्रशासन की ओर से संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। साथ ही तीर्थ यात्रियों को एहतियात बरतने की भी सलाह दी जा रही है। आपको बता दें कि वर्ष 2013 में केदार वैली में चोराबाड़ी झील के टूटने से मंदाकिनी नदी में बाढ़ आ गई थी। आपदा में हजारों श्रद्धालुओं की जान भी गई थी। बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने बताया कि केदारनाथ धाम के पास हिमस्खलन हुआ है, लेकिन राहत की बात है कि किसी जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। बताया कि केदारनाथ धाम पूरी तरह से सुरक्षित है। जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी एनएस रजवार ने बताया कि शनिवार सुबह पांच  बजे के करीब हिमस्खलन हुआ है, लेकिन कोई नुकसान नहीं हुआ है। मंदाकिनी नदी का जलस्तर सामान्य है। यह मंदिर परिसर से 5 किलोमीटर दूर की घटना है। मानसून की विदाई नहीं, पांच से बारिश होगी उत्तराखंड से अभी मानसून की विदाई नहीं हुई है। पांच से नौ अक्टूबर तक बारिश का अनुमान मौसम विभाग ने जारी किया है। उसके बाद ही उत्तराखंड से मानसून विदा होगा। मौसम विज्ञान निदेशक डा. बिक्रम सिंह ने बताया कि राजस्थान, हरियाणा, पश्चिमी यूपी, दिल्ली के कुछ हिस्सों से मानसून विदा हुआ है। उत्तराखंड में पांच अक्टूबर से बारिश का अनुमान है। बारिश हल्की से मध्यम हो सकती है। सभी जिलों को इसके लिए सूचना भेज दी गई है। कहा कि कई जगह उत्तराखंड से मानसून की विदाई की जानकारी दी गई, जो सही नहीं है। बारिश का एक दौर अभी और दिखाई दे रहा है, उसकी के बाद मानसून की विदाई मानी जाएगी।  
उत्तराखंड प्रदेश

उत्तराखंड को राष्ट्रपति से मिला यह पुरस्कार, पढ़े पूरी ख़बर

नई दिल्ली में आयोजित 68वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में उत्तराखंड को मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट का पुरस्कार मिला। उत्तराखंड की ओर से सूचना महानिदेशक बंशीधर तिवारी ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से यह पुरस्कार प्राप्त किया। यह पुरस्कार मिलने पर राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा यह गौरवान्वित करने वाला है। उत्तराखंड के लिए गौरव की बात समारोह के बाद सूचना महानिदेशक तिवारी ने कहा कि उत्तराखंड का चयन इस पुरस्कार के लिए गौरव की बात है। उत्तराखंड ने बेहद कम समय में अन्य राज्यों को पीछे छोड़ते हुए यह पुरस्कार प्राप्त किया है। यह पुरस्कार मिलने से उत्तराखंड में फिल्मों की शूटिंग को और ज्यादा प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने बताया कि फिल्म उद्योग को प्रोत्साहित करने के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कई अहम फैसले लिए। इन्हीं फैसलों के चलते राज्य में फिल्म निर्माता निर्देशकों के लिए अनुकूल माहौल बन पाया। इन्हीं प्रयासों के फलस्वरूप आज उत्तराखंड को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार से सम्मानित किया गया। राज्य में शूटिंग के लिए नहीं लिया जाएगा कोई शुल्क तिवारी ने बताया कि सीएम के निर्देश पर प्रदेश की फिल्म नीति और अधिक आकर्षक बनाई जा रही है। शूटिंग के लिए सिंगल विंडो सिस्टम के तहत मंजूरी दी जा रही है। राज्य में शूटिंग के लिए कोई शुल्क भी नहीं लिया जा रहा है। नई फिल्म नीति में 1.5 करोड़ रुपये तक के अनुदान की व्यवस्था है। शूटिंग के दौरान पुलिस सुरक्षा उपलब्ध कराई जा रही है। स्थानीय सिनेमाघरों में सप्ताह में एक शो क्षेत्रीय फिल्मों का अनिवार्य रूप से दिखाया जाना है ताकि राज्य में अधिकाधिक फिल्म निर्माता आएं और स्थानीय स्तर पर रोजगार के मौके बढ़ेंगे। धामी ने जताई खुशी राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा, यह पुरस्कार देवभूमिवासियों के लिए गौरवान्वित करने वाला है। सभी को हार्दिक बधाई। राज्य सरकार फिल्म शूटिंग को बढ़ावा देने के लिए हरसम्भव प्रयास कर रही है। फिल्म शूटिंग संबंधी अनुमति प्रक्रिया का सरलीकरण किया गया है। फिल्म नीति को और बेहतर बनाया जाएगा।
उत्तराखंड

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी दिल्ली दौरे के बाद देहरादून लौटे, 12 अक्तूबर को होगी कैबिनेट बैठक

दो दिन के दिल्ली दौरे के बाद देहरादून लौटे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी गुरुवार सुबह से ही सक्रिय दिखाई दिए। उन्होंने सुबह सेलाकुई में किसान मोर्चा के उत्तर क्षेत्रीय शिविर में शिरकत की। इसके बाद उन्होंने सचिवालय में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा की और योजनाओं को लेकर अफसरों को सख्त निर्देश दिए। राज्य में बीते कई दिनों से मंत्रिमंडल में फेरबदल की अटकलें लगाई जा रही हैं। इन चर्चाओं को तब और हवा मिली जब मुख्यमंत्री धामी बिना किसी पूर्व कार्यक्रम के मंगलवार को अचानक दिल्ली रवाना हो गए। दिल्ली में पार्टी के कई शीर्ष नेताओं के साथ महाराष्ट्र के राज्यपाल और पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी से भी उन्होंने लंबी बैठक की। मुख्यमंत्री के दिल्ली दौरे के बीच ही कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज और स्वास्थ्य मंत्री डा. धन सिंह रावत भी दिल्ली पहुंच गए थे। इससे राज्य का सियासी तापमान और बढ़ गया था। कयास लगाए जा रहे थे कि शीर्ष नेतृत्व जल्द ही उत्तराखंड को लेकर कोई बड़ा फैसला ले सकता है। हालांकि सीएम के गुरुवार को दून लौटने के बाद मामला कुछ शांत सा हो गया है। भाजपा सूत्रों का कहना है कि राज्य कैबिनेट में फेरबदल तो होना है लेकिन इसमें अभी कुछ समय लग सकता है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. धन सिंह भी गुरुवार को देहरादून लौट आए और उन्होंने मुख्यमंत्री के साथ स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में शिरकत की। महाराज नहीं लौटे इधर, गुरुवार को सोशल मीडिया पर कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के नागपुर जाने की चर्चाएं चलती रहीं। हालांकि उनके पीआरओ ने बताया कि महाराज पूना गए हैं। वहां उन्हें एक निजी कार्यक्रम में शामिल होना है। सोशल मीडिया पर महाराज के इस दौरे की खासी चर्चा है और इसे आरएसएस मुख्यालय नागपुर से जोड़ा जा रहा है। कैबिनेट बैठक 12 को इस बीच धामी मंत्रिमंडल की बैठक का कार्यक्रम भी तय हो गया है। सरकारी प्रवक्ता के अनुसार, 12 अक्तूबर को कैबिनेट बैठक होगी। सुबह 11 बजे से सचिवालय के विश्वकर्मा भवन स्थित वीर चंद्र सिंह गढ़वाल सभागार में सीएम पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में कैबिनेट कई अहम मुद्दों पर निर्णय ले सकती है। अधिकारियों को विभागवार ठोस प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दे दिए गए हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट ने कहा, ‘मुख्यमंत्री के साथ ही पार्टी के अन्य नेताओं का दिल्ली दौरा सामान्य था। मंत्रिमंडल में बदलाव या फेरबदल से इसका कोई संबंध नहीं था। मुख्यमंत्री, केंद्रीय पर्यटन मंत्री से मिलने पहुंचे थे और मुझे लोकसभा अध्यक्ष से मुलाकात करनी थी। अन्य मंत्री व विधायक भी अपने कार्यक्रमों के चलते दिल्ली में थे। इस दौरे के अनावश्यक राजनीतिक निहितार्थ नहीं निकाले जाने चाहिए।’
उत्तराखंड

जिला पंचायत के परिणाम घोषित होते ही बवाल, लोगों की भीड़ ने पुलिसकर्मियों पर किया पथराव

हरिद्वार जिला पंचायत टिकौला सीट के परिणाम घोषित होते ही मंगलौर में बवाल हो गया। उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया। घटना में शहर चौकी प्रभारी सहित चार पुलिसकर्मी घायल हो गए घायल हो गए। उधर, बहादराबाद में मतगणना केंद्र पर पथराव में एक पुलिस इंस्पेक्टर घायल हो गए। गुरुवार को टिकौला जिला पंचायत सीट के नतीजे पर आजाद समाज पार्टी के प्रत्याशी सुरेंद्र कुमार ने आपत्ति जताई। इस मामले को लेकर भीम आर्मी के प्रदेश अध्यक्ष महक सिंह ने फिर से मतगणना की मांग की। अधिकारियों ने इसे जिला स्तर का मामला बताया। इससे पहले आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद भी मतगणना स्थल पर पहुंचे। अधिकारियों के दोबारा मतगणना से इनकार पर वह वहां से चले गए। इसके बाद फिर से यहां विवाद हुआ और भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया। पथराव पर पुलिस ने मतगणना स्थल मंडी परिसर का गेट बंद कर दिया और लाठीचार्ज कर छह से अधिक लोगों को हिरासत में लिया। पथराव के दौरान शहर चौकी प्रभारी मनोज गैरोला तथा पीएसी के तीन सिपाही गंभीर रूप से घायल हो गए। जिन्हें हायर सेंटर रेफर किया गया है। घायल सिपाहियों में किशोर कुमार, कमल किशोर तथा राजेंद्र पाल 46 बटालियन पीएसी ऊधमसिंहनगर हैं। एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लिया। उधर, बहादराबाद में मतगणना खत्म होने के बाद जैसे ही नतीजों का ऐलान किया जाना था, कुछ लोगों ने मतगणना केंद्र पर पथराव कर दिया। पथराव से ड्यूटी पर तैनात इंस्पेक्टर बीएल भारती के हाथ की उंगली में चोट लगी है। वाहनों में भी भीड़ ने तोड़फोड़ की। एसओ नितेश शर्मा ने बताया कि मामले में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। विधायक ममता राकेश धरने पर बैठीं चौली शहाबुद्दीनपुर जिला पंचायत सीट के प्रत्याशी को प्रमाणपत्र नहीं दिए जाने का आरोप लगाकर विधायक ममता राकेश गुरुवार देर रात धरने पर बैठ गई। उनका कहना है कि करीब आठ घंटे से जीते हुए प्रत्याशी को प्रमाण पत्र नहीं दिया जा रहा है।
उत्तराखंड प्रदेश

RSS पदाधिकारी की अंकिता को ले कर अपमानजनक टिप्पणी पर भड़क जनाक्रोश

आरएसएस (RSS) पदाधिकारी की अंकिता और उसके माता-पिता पर की गई अभद्र टिप्पणी से जनाक्रोश भड़क गया है। बुधवार को भारी संख्या में एकत्रित हुए ग्रामीणों ने रायवाला थाने का घेराव किया। प्रदर्शनकारियों की मांग है कि अपमानजनक टिप्पणी करने वाले आरएसएस पदाधिकारी पर मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया जाए। इस दौरान थाना प्रभारी के खिलाफ भी नारेबारी कर विरोध किया। आरोप लगाया कि पुलिस आरएसएस पदाधिकारी को शह दे रहे हैं। इस दौरान हाईवे पर सांकेतिक जाम भी लगाया गया, जिससे दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी-लंबी लाइनें लग गईं। मालूम हो कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के विभाग प्रचार प्रमुख विपिन कर्णवाल की ओर से दिवंगत अंकिता भंडारी के परिवार पर की गई अभद्र टिप्पणी से सोशल मीडिया पर घमासान मच गया। लोग आरएसएस नेता की टिप्पणी पर भड़क गए और उन्हें खूब खरी-खोटी सुनाई। विरोध के बीच आरएसएस नेता ने अपनी पोस्ट डिलीट कर दी। उन्होंने अपनी सफाई में एक वीडियो डाला, जिसमें अंकिता के पिता पर अभद्र नारे-टिप्पणी करते हुए दिखाया गया है। कर्णवाल के बयान से संघ पदाधिकारियों की स्थिति भी असहज हो गई। संघ नेता के खिलाफ अलग-अलग थानों में तहरीर देकर उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की है। कर्णवाल संघ में हरिद्वार, रुड़की व ऋषिकेश के विभाग प्रचार प्रमुख हैं। मंगलवार को उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा-जो बाप और भाई 19 साल की लड़की की कमाई खाता हो और बाद में लड़की की लाश भी बेच दे, उसके लिए क्या चिल्लाना। सबसे बड़ा गुनहगार तो लड़की का बाप है। उन्होंने इसके अलावा भी अभद्र-आपत्तिजनक टिप्पणी कर डाली, उसे यहां लिखा नहीं जा सकता। जैसे ही उन्होंने इसे पोस्ट किया,उसके कुछ देर बाद सोशल मीडिया पर इस टिप्पणी का जबरदस्त विरोध शुरू हो गया। लोगों ने तीखा विरोध जताया। संघ भी कई लोगों के निशाने पर आ गया। लोगों ने इस टिप्पणी को उत्तराखंड की संस्कृति के खिलाफ बताया। कर्णवाल की संघ के बड़े पदाधिकारियों के साथ फोटो वायरल होने लगी। सूत्र बताते हैं कि संघ के पदाधिकारियों ने तत्काल मामले का संज्ञान लेते हुए कर्णवाल को फटकार लगाई। इसके बाद कर्णवाल ने इस पोस्ट को सोशल मीडिया से हटा लिया।  
उत्तराखंड प्रदेश

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अंकिता भंडारी के परिजनों को आर्थिक मदत देने का किया एलान

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि दिवंगत अंकिता भंडारी के परिजनों को 25 लाख रूपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। उन्होंने अधिकारियों को इसके लिये निर्देश दिये गये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तराखंड सरकार अंकिता के परिवार के साथ है और उनकी हर प्रकार से सहायता करेगी। मामले की एसआईटी जांच की जा रही है। पूर्ण निष्पक्ष तरीके से जल्द से जल्द जांच पूरी की जाएगी। मामले से संबंधित हर तथ्य को जुटाते हुए पुख्ता तरीके से रिपोर्ट तैयार कर अपराधियों को सख्त से सख्त सजा दिलाना सुनिश्चित किया जाएगा। अपराधियों को ऐसी सजा दिलाई जाएगी जो आगे के लिए भी नजीर बने। पीड़ितत परिवार को त्वरित न्याय मिल सके, इसके लिये फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई के लिए माननीय न्यायालय से अनुरोध किया गया है।
उत्तराखंड

वन मंत्री सुबोध उनियाल ने वन भूमि को ले कर कही ये बात

वन भूमि पर सिर्फ छोटे-छोटे अतिक्रमण हटाने से काम नहीं चलेगा। बड़े रसूखदारों ने भी अगर जंगल की एक इंच भी भूमि कब्जाई है तो उन्हें भी हटाएं। ये बात सोमवार को वसंत विहार स्थित एक होटल में रेंजर संघ के अधिवेशन में वन मंत्री सुबोध उनियाल ने कही। उन्होंने मंच से ही पीसीसीएफ विनोद सिंघल और चीफ गढ़वाल सुशांत पटनायक को भी अतिक्रमण पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।

उत्तरकाशी के सांकरी में नकल माफिया हाकम सिंह का वन भूमि पर अतिक्रमण की बात पर भड़क वन मंत्री ने कहा कि हाकम जैसे लोग वन भूमि कब्जा लेते हैं तो ये भी वन विभाग की ही कमी है। ऐसे लोगों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई हो। यही नहीं उन्होने ये तक कहा कि अगर वन विभाग के अधिकारी कर्मचारी सतर्क रहेंगे और अपने दायित्व का ईमानदारी से निर्वहन करेंगे तो हाकम जैसे लोग ऐसे अतिक्रमण नहीं कर सकते। उन्होंने वन भूमि पर बने रिजार्ट,होटल या अन्य निर्माण पर तत्काल कार्रवाई के लिए कहा। वन मंत्री ने रेंजरों को आश्वासन दिया कि उनकी सभी जायज मांगों पर सरकार गंभीरता से कार्रवाई करेगी। सम्मेलन में रेंजर राकेश नेगी, डा. उदय गौड़, जितेंद्र गुसाईं, अनिल जोशी, ममता चंद, शिवांगी डिमरी और विजय सैनी सहित प्रदेश भर के 110 रेंजर मौजूद रहे।

ये उठायी प्रमुख मांगें

पुलिस की तरह जोखिम व पोषण भत्ता दिया जाए।

डिप्टी रेंजरों को टैरिटोरियल रेंजों से तत्काल हटाया जाए।

रेंजरों को आधुनिक हथियार और उन्हें चलाने की अनुमति दी जाए।

एक माह का अतिरिक्त वेतन दिया जाए।

सेवा काल में एक बार निजी उपयोग के लिए वन निगम से लकड़ी दी जाए।

रेंजरों को पांच लाख तक के कामों कराए जाने का वित्तीय अधिकार मिले।

रेंजों में रेंजर क्लर्क के पद सृजित किए जाएं।

सभी रेंजों में खलासी व अर्दली के पद सृजित किए जाएं।

 

उत्तराखंड प्रदेश

दंपति ने खोले पुलकित आर्य के आलीशान रिर्जाट से जुड़े कई राज़

अंकिता हत्याकांड मामले में रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं। रिजॉर्ट में काम करने वाले पूर्व स्टाफ ने प्रताड़ित होकर यहां से किसी तरह से भागकर जान बचाई। मेरठ में रहने वाले दोनों पति-पत्नी बीते जून महीने तक यहीं काम कर रहे थे। केवल 2 महीनों में वह इतना परेशान हो गए कि उन्हें रातोंरात यहां से भागकर अपनी जान बचानी पड़ी। पति-पत्नी ने आपबीती मीडिया को बताई । दरअसल देहरादून की रहने वाली इशिता की शादी विवेक से हुई थी। दोनों ही होटल मैनेजमेंट के कोर्स के बाद नौकरी तलाश रहे थे। इसी बीच उन्हें पुलकित आर्य के रिजॉर्ट पर स्टाफ रिक्वायरमेंट की जानकारी मिली। इसके बाद दोनों की नौकरी लग गई। आरोप है कि लगभग 2 महीनों की नौकरी में ही दोनों पति-पत्नी इतने परेशान हो गए कि उन्हें रातोंरात यहां से भागना पड़ा। पूर्व स्टाफ इशिता बताती हैं कि पुलकित आर्य उन्हें इतना परेशान कर रहा था कि कई बार उन्होंने यहां से भागने की कोशिश की। वह बताती है कि उनके ऊपर चोरी का आरोप लगा दिया था। चोरी का आरोप लगाने के बाद उनसे बाकायदा लिखित में माफी मंगवाई, जबकि उन्होंने चोरी नहीं की थी। प्रताड़ना झेल रहे पति-पत्नी किसी तरह से यहां से निकले। पति-पत्नी ने इस रिजॉर्ट को लेकर कई प्रकार के आरोप लगाए। आरोप लगाया कि यहां कुछ ऐसी लड़िकयों का आना जाना रहता था, जिसके बारे में हिदायत थी कि उनके नाम और नंबर नोट नहीं करने हैं। जैसे ही कोई स्टाफ यहां से जाने की कोशिश करता था तो उसको किसी तरह से फंसा दिया जाता। पटवारी को मिलता था विशेष ट्रीटमेंट दोनों पति-पत्नी में बताया कि वह यहां से निकलने में कामयाब नहीं हो पा रहे थे। पुलिस को फोन करने के बाद यह जानकारी पता लगी कि पुलिस तो यहां पर आती ही नहीं। तब हमने पटवारी को फोन किया और पटवारी ने यहां पर आकर उल्टा हमें ही धमकाया और इस बात की भी हिदायत दी कि अगर यहां पर ज्यादा चतुर बनने की कोशिश ही तो अंजाम भुगतने होंगे। पटवारी अमूमन यहां पर कई बार रात और दिन में आया करता था। जब शिकायत पटवारी को दी जाती थी तो उल्टा पटवारी भी ही कर्मचारी को धमकाया करता था